नई दिल्ली. जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन (G-20 Summit) में भाग लेने पहुंचे दुनिया की महाशक्तियों के बीच विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श जारी है. इस सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump), रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समेत विश्व के कई प्रमुख देशों के नेता पहुंचे हैं. पीएम मोदी की इस दौरान विश्व के सभी प्रमुख देशों के नेताओं के साथ मुलाकात होनी है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी पीएम मोदी से मुलाकात कर उन्हें लोकसभा चुनाव में बंपर जीत की बधाई दी है. पीएम मोदी की तारीफ करते हुए ट्रंप ने यह भी कहा कि मोदी से पहले भारत और अमेरिका कभी इतने करीब नहीं आए थे. वहीं मोदी ने इस मौके पर ट्रंप से कहा कि वह अमेरिका के साथ ईरान, 5G और दोनों देशों के बीच सुरक्षा और आपसी संबंधों पर चर्चा करने आए हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को करिश्माई नेता बताते हुए लोकसभा चुनाव में उनकी जीत को महत्वपूर्ण बताया. ट्रंप ने मोदी से कहा, ‘लोकसभा चुनाव में मिली बंपर जीत के आप स्वाभाविक हकदार थे. भारत और अमेरिका को करीब लाने में आपकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है.’ ट्रंप ने मोदी के पहले कार्यकाल को याद करते हुए कहा, ‘मुझे याद है कि जब आपने पहली बार प्रधानमंत्री का पद संभाला था तो हमारे बीच कई मुद्दों पर असहमतियां थीं. कई मामलों पर हमारे विचार एक-दूसरे से अलग थे. लेकिन आपकी विलक्षण कार्यशैली से ये मसले हल हो गए और भारत-अमेरिका अब एक साथ है.’

अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत के साथ मजबूत संबंधों का हवाला देते हुए कहा, ‘भारत और अमेरिका आज एक-दूसरे के दोस्त हैं और मैं यह बात निश्चित रूप से कहना चाहता हूं कि आज से पहले हमारे बीच ऐसे संबंध पहले कभी नहीं रहे. व्यापार हो या सैन्य-सुरक्षा, हम सभी क्षेत्रों में एक साथ मिलकर काम करेंगे.’

जी-20 समिट में डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात से पहले जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे (Shinzo Abe) के साथ भी पीएम मोदी की मुलाकात हुई. इस त्रि-पक्षीय भेंट के दौरान भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मौजूद रहे. पीएम मोदी ने विश्व के तीन प्रमुख देशों के राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात को ‘JAI’ यानी ‘जापान, अमेरिका और इंडिया’ के रूप में परिभाषित किया. पीएम मोदी ने अपने जापानी समकक्ष शिंजो आबे और डोनाल्ड ट्रंप के साथ हुई भेंट को काफी सकारात्मक बताते हुए कहा, ‘जापान, अमेरिका और भारत के बीच बने त्रिकोणीय संबंध से कई मामलों पर एकराय बनेगी. हमारे बीच भारतीय-प्रशांत क्षेत्र, आपसी संचार को बढ़ाने और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट को लेकर काफी सकारात्मक चर्चा हुई. मैं इसके लिए प्रधानमंत्री शिंजो आबे और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को धन्यवाद देता हूं.’