किगली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अफ्रीका के तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले पड़ाव में आज यहां रवांडा पहुंच गए. इस पूर्वी अफ्रीकी देश की यात्रा पर आने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं. प्रधानमंत्री का विमान सोमवार शाम यहां किगली अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचा जहां उनका लालकालीन पर भव्य स्वागत किया गया. पीएम का रवांडा का दौरा अपनेआप में बेहद खास है. न सिर्फ ये किसी भारतीय पीएम का पहला रवांडा दौरा है बल्कि इस दौरान पीएम मोदी रवांडा को बेहद खास तोहफा भी देने जा रहे हैं.

प्रधानमंत्री की अगवानी खुद रवांडा के राष्ट्रपति पाल कागमे ने की. दोनों नेताओं के बीच यहां द्विपक्षीय वार्ता भी हुई. पीएम मोदी ने इस दौरान ऐलान किया कि रवांडा में भारतीय उच्चायोग स्थापित किया जाएगा जिससे न सिर्फ दोनों देशों के रिश्तों को नया आयाम मिलेगा बल्कि यहां काउंसलर, वीजा और पासपोर्ट की सुविधा लोगों को मिलेगी. 

रवांडा यात्रा है बेहद खास

मोदी की दो दिवसीय रवांडा यात्रा अपने आप में महत्वपूर्ण है. यह किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है. प्रधानमंत्री मोदी अपनी इस यात्रा के दौरान रवांडा के राष्ट्रपति पाल कागमे के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे. इस दौरान उनकी प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक भी होगी और कारोबारियों और भारतीय समुदाय के साथ भी उनकी मुलाकात होगी. प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी वक्तव्य में यह कहा गया है.

रवांडा को उपहार में देंगे 200 गायें देंगे पीएम मोदी, जानिए क्या है वजह

दो दिवसीय प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री जिनोसाइड मेमोरियल और हर परिवार एक गाय कार्यक्रम जिसे यहां ‘गिरिंका’ कहते हैं, में भी भाग लेंगे. यह रवांडा के राष्ट्रपति द्वारा शुरू की गई राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा योजना है. सदभावना के तहत पीएम मोदी रवांडा को 200 गायें भी दे रहे हैं जो यहां के लोगों को दी जाएंगी. इस योजना के तहत पहली बार जिस घर में पछड़ा पैदा होगा, उसे पड़ोसी को दे दिया जाएगा और इस तरह सभी परिवारों को गाय मिलने का सपना पूरा होगा.

होंगे कई समझौते

विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) टी एस तिरूमूर्ति ने कहा इस दौरान भारत और रंवाडा के बीच एक रक्षा सहयोग समझौता होने की भी उम्मीद है. उन्होंने कहा कि भारत जल्द ही रवांडा में अपना मिशन भी खोलेगा. उन्होंने कहा, यात्रा के दौरान हमें दो रिण सुविधाओं पर समझौता होने की उम्मीद है. 10 करोड़ डालर की औद्योगिक पार्क विकसित करने और किगली विशेष आर्थिक क्षेत्र (सेज) के लिए और एक अन्य 10 करोड़ डालर की ऋण सुविधा कृषि और सिंचाई के लिए होगी.

मोदी की यह यात्रा चीन के प्रधानमंत्री शी चिनफिंग की रवांडा यात्रा के कुछ ही दिन बाद हो रही है. प्रधानमंत्री इसके बाद मंगलवार को युगांडा की यात्रा पर निकलेंगे. युगांडा की यह यात्रा 1997 के बाद किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा होगी. इसके बाद वह दक्षिण अफ्रीका रवाना होंगे जहां ब्रिक्स सम्मेलन होना है. ब्रिक्स में भारत के अलावा ब्राजील, द. अफ्रीका, चीन और रूस शामिल हैं. इस बार अन्य अफ्रीकी देशों को भी अतिथि देशों के रूप में आमंत्रित किया गया है.

(भाषा इनपुट)