नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को केंद्र सरकार के सभी मंत्रालयों को निर्देश दिया कि वे आम आदमी के जीवन को आसान बनाने पर ध्यान केंद्रित करें और कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजों ने दिखाया है कि लोग ‘यथास्थिति’ में बदलाव चाहते हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि सभी केंद्रीय मंत्रालयों के सचिवों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजे दर्शाते हैं कि लोगों ने ‘प्रो इन्कम्बेंसी’ के पक्ष में मतदान किया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय मतदाताओं ने अगले पांच वर्ष के लिये एक दृष्टिकोण को रेखांकित किया है और अब नयी सरकार के समक्ष एक अवसर है. उन्होंने कहा कि लोगों की भारी अपेक्षा को चुनौती के तौर पर नहीं बल्कि लक्ष्यों को हासिल करने की खातिर सरकार के लिये एक अवसर के तौर पर देखा जाना चाहिए. बयान में कहा गया है, ‘‘उन्होंने (मोदी ने) कहा कि जनादेश यथास्थिति में बदलाव और खुद के लिये बेहतर जीवन की लोगों की इच्छा और आकांक्षा को दर्शाता है.’’

महिला आयोग अध्यक्ष ने कहा- कठुआ केस के मुजरिमों को फांसी की सजा नहीं होने पर हुई निराशा

जनसांख्यिकीय लाभांश पर प्रधानमंत्री ने कहा कि यह जरूरी है कि जनांकिकी का कारगर तरीके से इस्तेमाल किया जाए. उन्होंने ‘मेक इन इंडिया’ पहल का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि इस दिशा में ठोस प्रगति करने की आवश्यकता है. प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘कारोबार में सहूलियत’ में भारत की प्रगति छोटे कारोबारों और उद्यमियों के लिये सुविधा उपलब्ध कराने में दिखनी चाहिये. इस मौके पर कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा ने कहा कि सभी मंत्रालयों में महत्वपूर्ण प्रभावशाली फैसले किये जाने चाहिये. इसके लिये 100 दिन के भीतर मंजूरी ली जानी चाहिये.