नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कर्नाटक के राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के रजत जयंती समारोह का उद्घाटन किया. इस समारोह में पीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से अपनी उपलब्धता दर्ज करवाई. इस दौरान पीएम मोदी ने कई अहम मुद्दों पर लोगों को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि 25 साल का अर्थ है युवाओं में राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज प्रमुख स्थान रखता है. युवाओं को कुछ और बड़ा और बेहतर करने की उम्मीद है. पीएम ने आगे कहा कि मुझे उम्मीद है कि विश्वविद्यालय के छात्र लगातार नई उचाईंयों को समय के साथ छूते रहेंगे व आगे बढ़ते रहेंगे.Also Read - केरल बना कोरोना का गढ़, लेफ्ट सरकार की मदद के लिए केंद्र भेजेगी 6 सदस्यीय टीम

नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि अगर इस समय में दुनिया में कोरोना महामारी न फैली होती तो आज खास अवसर पर मुझे आप लोगों के साथ बेंगलुरू में वक्त बिताकर काफी बेहतर महसूस होता. ऐसे गंभीर समय में दुनिया हमारे डॉक्टरों, नर्सों, मेडिकल टीम और वैज्ञानिक समुदाय को ओर अशा और उम्मीद से देख रही है. दुनिया को आपसे देखभाल और इलाज दोनों की ही उम्मीद है. Also Read - Lockdown in Kerala News: केरल में इन तारीखों को लगेगा फुल लॉकडाउन, केंद्र भेज रहा टीम

Also Read - Coronavirus cases In India: 1 दिन में 43,509 लोग हुए संक्रमित, केरल बना कोरोना का गढ़

प्रधानमंत्री ने मेडिकल टीम व डॉक्टरों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि भले ही यह वायरस अदृश्य हो लेकिन हमारों स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा किया जा रहा काम अजेय है. ऐसे हालात में हमारे कार्यकर्ताओं की जीत सुनिश्चित है. पीएम ने आगे आयुष्मान भारत पर बोलते हुए कहा कि यह योजना विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा योजना है। 2 वर्षों से भी कम समय में, इस योजना से 1 करोड़ से ज्यादा लोगों को लाभ मिल चुका है. इस योजना का सबसे अच्छा लाभ ग्रामीण इलाकों में रहने वालों लोगों को हुआ है.

पीएम ने कहा कि देश में 22 एम्स अस्पतालों के निर्माण में तेजी दर्ज की गई है साथ ही पिछले 5 सालों में हमने MBBS में 30,000 और स्नातकोत्तर की 15000 सीटों में बढ़ोत्तरी की है. वहीं कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे योद्धाओं को लेकर पीए ने कहा कि मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे कार्यकर्ताओं जो पहली कतार में खड़े हैं, उनपर किसी तरह की हिंसा और उनेक साथ दुर्व्यवहार को स्वीकार नहीं किया जाएगा.