नई दिल्ली: कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा द्वारा द्वारा पुलवामा हमले के बाद की गई एयर स्ट्राइक को जवाब देने का गलत तरीका बताने पर सियासी बवाल मच गया है. पीएम नरेंद्र मोदी ने इसे लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. पीएम ने एक के बाद एक तीन ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस बार-बार हमारे जवानों का अपमान कर रही है. 130 करोड़ भारतीय विपक्ष को ऐसी हरकतों के लिए माफ़ नहीं करेंगे. पीएम ने कांग्रेस अध्यक्ष पर भी निशाना साधते हुए कहा कि राहुल गांधी के सबसे भरोसेमंद सलाहकार और मार्गदर्शक सैम पित्रोदा इस तरह के सवाल उठाकर कांग्रेस की ओर से पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस के जश्न में शामिल हो गए हैं. बता दें कि एक दिन बाद 23 मार्च को पाकिस्तान का राष्ट्रीय दिवस (गणतंत्र दिवस) है.


पीएम नरेंद्र मोदी ने इंडियन ओवरसीज़ कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा को कांग्रेस का वफ़ादार दरबारी बताया है. पीएम ने कहा कि सैम पित्रोदा ने वहीँ बातें स्वीकार की हैं, जिसे देश पहले से ही जानता है. कांग्रेस आतंक से निपटने की क्षमता नहीं रखती थी. लेकिन ये नया भारत है. हम आतंकवाद को उसकी भाषा में ही जवाब देंगे, जिस भाषा को वह समझते हैं. पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के लोगों से अपील करता हूं कि विपक्ष से उनके बयानों को लेकर सवाल पूछें. हर भारतीय अपनी सेना के साथ खड़ा है.


सैम पित्रोदा के साथ पीएम मोदी ने सपा के राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव के बयान को भी निशाने पर लिया है. रामगोपाल यादव ने एक दिन पहले कहा था कि अगर पुलवामा हमले की जांच हो जाए तो बड़े-बड़े लोग इसमें फंस जाएंगे. पुलवामा हमले को रामगोपाल ने बड़ी साजिश करार देते हुए कहा था कि वोट के लिए हमारे जवानों को मार दिया गया. रामगोपाल के बयान पर पीएम मोदी ने कहा कि रामगोपाल जी जैसे सीनियर नेता ने गैर जिम्मेदाराना बयान दिया है. यह शहीद होने वाले हमारे जवानों के साथ अमानवीयता है. पीएम ने कहा कि विपक्ष आदतन आतंकियों के पक्ष में खड़े होकर हमारी सेना पर सवाल उठा रहा है.


बता दें कि राहुल गांधी के करीबी और इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा के एक बयान से सियासी गलियारों में भूकंप आ गया है. सैम पित्रोदा ने ये बयान पुलवामा हमले पर दिया है. उन्‍होंने कहा कि पुलवामा हमले के लिए पूरे पाकिस्‍तान पर आरोप लगाना ठीक नहीं है. उन्‍होंने ये भी कहा कि मुंबई हमले के लिए भी पूरे पाकिस्‍तान को जिम्‍मेदार ठहराना सही नहीं है. न्‍यूज एजेंसी ANI को दिए एक बयान में उन्‍होंने कहा, ‘अगर उन्‍होंने (IAF) ने 300 लोगों को मारा तो ठीक है. मैं ये कहना चाहता हूं कि क्‍या आप और तथ्‍य देकर इसे साबित कर सकते हैं.


सैम पित्रौदा ने कहा, ‘मुंबई में भी ऐसा हुआ था. हमने इस बार रिएक्ट किया. कुछ जहाज भेजे, पर यह सही तरीका नहीं है. सैम ने कहा कि पुलवामा हमले के लिए पूरे पाकिस्तान पर आरोप लगाना, जिम्‍मेदार ठहराना ठीक बात नहीं है. कुछ लोगों की गलती की सजा पूरे देश को नहीं दी जानी चाहिए. मुंबई में (26/11 आतंकी हमला) 8 लोग आते हैं और हमला कर देते हैं. इसके लिए पूरे देश (पाकिस्तान) पर आरोप नहीं लगा सकते. मैं नहीं मानता कि यह सही तरीका है.