नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत और जापान का विशेष सामरिक एवं वैश्विक गठजोड़, कोविड-19 के बाद विश्व में नयी प्रौद्योगिकी और समाधान विकसित करने में मदद पहुंचा सकता है. मोदी ने यह टिप्पणी जापान के अपने समकक्ष शिंजो आबे से बातचीत के बाद अपने ट्वीट में की. दोनों नेताओं ने कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की. Also Read - देश में 24 घंटे में कोरोना के 9,851 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 26 हजार के पार

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे मित्र प्रधानमंत्री शिंजो आबे से कोविड-19 महामारी के बारे में सार्थक चर्चा हुई.’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘भारत-जापान का विशेष सामरिक एवं वैश्विक गठजोड़ कोविड-19 के बाद विश्व में हमारे लोगों, हिंद-प्रशांत क्षेत्र और दुनिया को नयी प्रौद्योगिकी और समाधान विकसित करने में मदद पहुंचा सकता है.’’ जापान के प्रधानमंत्री आबे ने हाल ही में वायरस को फैलने से रोकने के लिये तोक्यो और छह अन्य क्षेत्रों में आपात स्थित की घोषणा की थी. Also Read - Mumbai Updates: हैरान करने वाले हैं महाराष्ट्र में कोरोना के मामले, देश के 20 प्रतिशत मरीज सिर्फ मुंबई में

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस के मुद्दे पर नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली से भी बात की. मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘आज नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली से बात की. हमने कोविड-19 के कारण उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस चुनौती से निपटने में नेपाल के लोगों की प्रतिबद्धता की सराहना करता हूं . हम कोविड-19 के खिलाफ हमारी साझी लड़ाई में नेपाल के साथ एकजुट खड़े हैं.’’

(इनपुट भाषा)