नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार के हर फैसले के पीछे ग्राउंड रिपोर्ट की भूमिका बताई है. उन्होंने कहा है, हम दिल्ली के आरामदायक सरकारी दफ्तरों में बैठकर नहीं बल्कि ग्राउंड से मिले फीडबैक के बाद फैसले लेते हैं. इसी भावना के कारण आज हर भारतीय का बैंक खाता खुल सका है. Also Read - सीएम अमरिंदर सिंह ने फाइनल परीक्षाओं को लेकर मोदी को लिखा पत्र, कहा- UGC के निर्देश की हो समीक्षा

मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शनिवार को डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन के 90 वें जन्मदिन समारोह को संबोधित करते हुए कहा, भारत सरकार धर्म, लिंग, जाति, पंथ या भाषा के बीच भेदभाव नहीं करती है. हम 130 करोड़ भारतवासियों को मजबूत बनाने की इच्छा से निर्देशित हैं और हमारा मार्गदर्शक प्रकाश भारत का संविधान है. प्रधानमंत्री ने इस दौरान कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई की चर्चा करते हुए कहा कि अब तक देश में इस लड़ाई ने अच्छे परिणाम दिए हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को और अधिक सावधान रहने पर भी बल दिया. Also Read - COVID 19 के हालात पर पीएम नरेंद्र मोदी ने की बैठक, बोले- हर राज्य को अपनाना चाहिए दिल्ली मॉडल

उन्होंने कहा, क्या हम सावधानियों को कम कर सकते हैं? बिल्कुल नहीं. हमें अब और अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है. मास्क पहनना, सामाजिक दूरी, दो गज की दूरी, भीड़ भरे स्थानों से बचने की जरूरत है. प्रधानमंत्री मोदी ने हा कि आज 8 करोड़ से अधिक परिवारों के पास धुएं से मुक्त रसोई है. डेढ़ करोड़ से अधिक घर बनाकर बेघरों को दिए गए हैं.भारत के पास दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा योजना के तौर पर आयुष्मान भारत है. Also Read - जो राहुल और प्रियंका गांधी के आक्रामक रुख की सराहना नहीं कर सकते वे कांग्रेस पार्टी में क्यों हैं : दिग्विजय सिंह