नई दिल्लीः कोरोना वायरस के बीच अब चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) ओडिशा सहित कई तटीय राज्यों के लिए आफत के रूप में दस्तक देने को तैयार है. दिल्ली मौसम विभाग के डायरेक्टर जनरल मृत्युंजय महापात्र ने अम्फाल को लेकर कहा था कि अम्फान 12 घंटों में एक सुपर चक्रवात के रूप में बदलने वाला है, जो उत्तर पूर्व की दिशा में गति करेगा. Also Read - Video: अमित शाह की वर्चुअल रैली के विरोध में राबड़ी देवी ने तेजस्‍वी- तेज प्रताप संग बजाई थाली

ऐसे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ को लेकर आज शाम चार बजे गृह मंत्रालय (MHA) और राष्ट्रीय आपदा प्राधिकरण (NDMA) की बैठक बुलाई है. पीएम मोदी इस बैठक में अम्फाल चक्रवात से पैदा होने वाले हालातों की समीक्षा करेंगे. Also Read - बिहार में पोस्टर वॉर शुरू, JDU ने तेजस्वी यादव पर साधा निशाना, देखें पोस्टर

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने इस संबंध में ट्वीट करते हुए लिखा है, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) जी ने अम्फाल चक्रवात की वजह से देश के अलग-अलग हिस्सों में उत्पन्न स्थिति की समीक्षा के लिए एमएचए और एनडीएमए के साथ शाम चार बजे एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है.” बता दें हाल ही में भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने जानकारी दी थी कि बंगाल की दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में यह चक्रवाती तूफान अगले 6 घंटों में तेजी तेजी लाने वाला है, जिसके चलते मछुआरों को भी समुद्री तटों से दूर रहने के लिए कहा गया है.

ओडिशा सरकार ने 12 तटीय जिले–गंजम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर, कटक, खुर्दा और नयागढ़– हाई अलर्ट पर रखा है. बंगाल की खाड़ी में उठे इस तूफान का असर दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई राज्यों में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है.

चक्रवात ‘अम्फान’ के आसन्न खतरे के मद्देनजर रविवार को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम तैनात कर दी गईं. इस बीच, ओडिशा ने कहा कि वह इस चक्रवात से बुरी तरह से प्रभावित होने वाले 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए तैयार है.