नई दिल्‍ली: पीएम नरेंद्र मोदी की चीन को लेकर आज सर्वदलीय मीटिंग आयोजित की जा रही है, जिसमें लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय एवं चीनी बलों के बीच हिंसक झड़प और चीन से विवाद को लेकर चर्चा होगी. पीएमओ के मुताबिक, भारत एवं चीन के सीमा क्षेत्रों में हालात को लेकर चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जो 19 जून को अपराह्न 5:00 बजे होगी. इस डिजिटल बैठक में विभिन्न राजनीतिक दलों के अध्यक्ष शामिल होंगे. Also Read - कांग्रेस का सवाल- भारतीय सेना LAC पर हमारी ही सरजमी से क्यों हट रही है पीछे, क्या पीएम मोदी के शब्दों के मायने नहीं?

वहीं, चीन के साथ चल रही विभिन्‍न स्‍तर पर बातचीत का कोई नतीजा सामने नहीं आ सका है, हालांकि चीन के बयानों में अब नरमी नजर आ रही है. Also Read - विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने की अमेरिकी उप विदेशमंत्री से बात, हिंद-प्रशांत, कोविड-19 से निपटने को लेकर हुई चर्चा

आज की सर्वदलीय मीटिंग में कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार समेत अन्‍य दलों के नेताओं के भाग लेने की संभावना है. बताया जा रहा है आम आदमी पार्टी को मीटिंग में नहीं बुलाया गया है. Also Read - उत्तराखंड के मंत्री ने चीनी राष्ट्रपति को रामायण भेजी, कहा- रावण भी ऐसी ही सोच का था, पढ़कर सबक लें

सूत्रों के मुताबिक, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शीर्ष विपक्षी नेताओं से बात की और उन्हें शुक्रवार की महत्वपूर्ण सर्वदलीय बैठक के लिए आमंत्रित किया था. जिन लोगों को आमंत्रित किया गया है उनमें सोनिया गांधी, शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान, सिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल, टीआरएस प्रमुख और तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव, बीजू जनता दल के अध्यक्ष और ओडिशा के सीएम हैं. नवीन पटनायक, सीपीआई-एम के महासचिव सीताराम येचुरी, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार, वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के सीएम जगनमोहन रेड्डी, जेडीयू के अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डीएमकेपी एमके स्टालिन, टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी और बसपा प्रमुख मायावती.

बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार की रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए थे और करीब 76 सैनिक घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है.

सीमा पर अप्रैल में शुरू हुए तनाव के बाद यह पहला मौका है जब प्रधानमंत्री ने इस संबंध में चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है. इस बैठक में पीएम के साथ विदेश मंत्री एवं रक्षा मंत्री भी मौजूद रहेंगे.

चीनी सैनिकों से झड़प में 20 सैनिकों के शहीद होने को लेकर कांग्रेस समेत कुछ विपक्षी दल पीएम और सरकार पर निशाना साध रहे हैं, जबकि बीजेपी कांग्रेस की आलोचना पर पलटवार कर रही है.