वॉशिंगटन: अमेरिका में सीनेट पर कब्जा करने की कोशिश में ट्रंप समर्थक हिंसक हो चुके हैं. इस दौरान पुलिस की गोलाबारी में एक महिला की मौत हो गई है, जिसके बाद से वाशिंगटन में कर्फ्यू लागू कर दिया गया है. अमेरिकी चुनाव के बाद सत्ता के हस्तांतरण को लेकर मचे बवाल पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है. पीएं मोदी ने कहा कि लोकतांत्रिक प्रक्रिया को गैरकानूनी विरोध प्रदर्शन से प्रभावित नहीं किया जा सकता है. Also Read - Farm Laws 2020: कृषि कानूनों के विरोध के बीच किसानों और सरकार के बीच शुक्रवार होगी नौवें दौर की वार्ता

बता दें कि अमेरिका के कैपिटोल परिसर के बाहर डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प देखने को मिली, इस दौरान एक महिला की मौत हो गई, जिसके बाद से ही कर्फ्य लागू है. इसी हिंसा को लेकर पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वॉशिंगटन डीसी में दंगों की खबर से परेशान हूं, सत्ता का हस्तांतरण शांतिपूर्ण और व्यवस्थित तरीके से जारी रहना चाहिए. लोकतांत्रिक प्रक्रिया को गैरकानूनी हिंसक प्रदर्शनों से प्रभावित नहीं किया जा सकता है. Also Read - Joe Biden के शपथ ग्रहण समारोह को लेकर अलर्ट, हो सकता है IED विस्फोट

बता दें कि यह हिंसा तब देखने को मिली जब जब कैपिटोल के भीतर बाहरी सुरक्षा के मद्देनजर यह घोषणा की गई कि कोई भी व्यक्ति परिसर से बाहर या भीतर आ-जा नहीं सकता है. बता दें कि इस दौरान नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत को प्रमाणित करने के लिए संसद के सांसद संयुक्त सत्र के लिए कैपिटोल के भीतर बैठे थे, तभी पुलिस ने सुरक्षा के उल्लंघन की घोषणा की थी.

ऐसे में कैपिटोल के बाहर डोनाल्ड ट्रंप और पुलिस के बीच जमकर झड़प देखने को मिली, जिसेक बाद ट्रंप समर्थकों ने कैपिटोल की सीड़ियों के नीचे के अवरोधक को क्षतिग्रस्त कर दिया. पुलिस की मानें तो इस इलाके से एक संदिग्ध पैकेट भी बरामद किया गया है. बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने सत्र की शुरुआत से पहले ही कहा था कि वे हार को स्वीकारने वाले नहीं है. क्योंकि उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी जो बाइडन पर चुनाव में धांधली का आरोप लगाया था.