नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी सोमवार को चंद्रयान-2 की लॉन्‍च‍िंग का लाइव प्रसारण के दौरान गंभीर मुद्रा में दिखाई दे रहे हैं. कुछ पलों के बाद मिशन की कामयाबी देख तालियां बजाते हुए नजर आए. इस दौरान वह अपनी कुर्सी पर बैठने की बजाय उसके बगल में खड़े होकर टीवी पर नजरें लगाए हुए थे. पीएम ने ट्वीट करते हुए इसरो के चीफ के सिवन जी और उनकी इसरो की पूरी टीम को चंद्रयान-2 की सफल लॉन्‍च के लिए बधाई दी है. बता दें कि पिछले हफ्ते तकनीकी गड़बड़ी के चलते चंद्रयान-2 की लॉन्‍च‍िंग रोकना पड़ी थी. Also Read - जयशंकर की चीन को दो टूक, 'एलएसी पर यथास्थिति में परिवर्तन का कोई भी एकतरफा प्रयास स्वीकार नहीं'

Also Read - कनाडा 401,000 नए प्रवासियों को स्वीकार करेगा, भारतीय होंगे सबसे बड़े लाभार्थी

Chandrayaan-2 Live Updates: इसरो ने किया चंद्रयान-2 का सफल प्रक्षेपण, 48 दिन में चांद पर पहुंचेगा Also Read - भारत ने Su-30MKI fighter से दागी ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल, जहाज को निशाना बनाया

पीएम मोदी ने इसके बाद टि्वटर पर फोटो शेयर करते हुए मिशन की सफल लॉन्‍चिंग को लेकर कई टि्वीट किए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण भारतीय वैज्ञानिकों के कौशल और विज्ञान के क्षेत्र में नई ऊंचाइयां छूने के लिए 130 करोड़ देशवासियों के दृढ़ संकल्प को प्रकट करता है. उन्‍होंने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि आज हर भारतीय गौरवान्वित महसूस कर रहा है.

चंद्रयान-2 में स्वदेशी प्रणाली के इस्तेमाल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह मिशन, ‘दिल से भारतीय, भावना में भारतीय है. चंद्रमा के अनछुए पहलुओं का पता लगाने के लिए चंद्रयान-2 सोमवार को श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से शान के साथ रवाना हो गया. इसे ‘बाहुबली’ नाम के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी-मार्क … के जरिए अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर प्रक्षेपित किया गया.

पीएम ने कहा, चंद्रयान-2 जैसी कोशिशों से होनहार नौजवान विज्ञान के प्रति गुणवत्तापूर्ण अनुसंधान और नवोन्मेष के लिए प्रेरित होंगे.”उन्होंने ट्वीट किया, चंद्रयान की बदौलत भारत के चंद्रमा कार्यक्रम को बड़ा बढ़ावा मिलेगा. चंद्रमा को लेकर हमारी जानकारी भी बढ़ेगी.

कुछ ही घंटों में प्रक्षेपित होगा चंद्रयान-2, जानिए मिशन से जुड़ी अहम बातें

चंद्रयान-2 की महत्ता पर मोदी ने कहा कि यह मिशन अनूठा है क्योंकि यह चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव वाले हिस्से पर खोज करेगा, जहां अभी अन्वेषण नहीं हुआ है. उन्होंने कहा, हर भारतीय के लिए गर्व की बात यह है कि चंद्रयान-2 पूरी तरह स्वदेशी मिशन है. चंद्रमा के रिमोट सेंसिंग के लिए इसमें एक आर्बिटर होगा और चंद्रमा की सतह की छानबीन के लिए लैंडर रोवर मॉडयूल भी है. यह विशेष क्षण है, जिसे हमारे गौरवशाली इतिहास के इतिहास में अंकित किया जाएगा. प्रधानमंत्री ने एक तस्वीर भी साझा की है, जिसमें वह बड़े स्क्रीन पर प्रक्षेपण को देखते हुए नजर आ रहे हैं.