नई दिल्ली: देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की गुजरात में बन रही दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ अब लगभग बनकर तैयार है. पीएम मोदी 31 अक्टूबर को इस प्रतिमा का उद्घाटन करेंगे. इस बारे में जानकारी देते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि आजादी के बाद अनेक देशी रियासतों का एकीकरण करने में सरदार वल्लभ भाई पटेल का योगदान अतुलनीय है.

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘जब नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने वर्ष 2013 में सरदार पटेल की दुनिया में सबसे बड़ी प्रतिमा राज्य में स्थापित करने की घोषणा की थी. आज हम पूरे देश को बताना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री के परिश्रम, मार्गदर्शन में इसे साकार किया जा चुका है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘देश की एकता, अखंडता की प्रतीक, दुनिया की इस सबसे बड़ी प्रतिमा का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 31 अक्तूबर 2018 को करेंगे.’’ रूपाणी ने कहा, ”यह प्रतिमा 182 मीटर की है, आज जब देश की अखंडता और समाज की एकजुटता पर प्रहार किया जा रहा है, ऐसे में सरदार पटेल की यह प्रतिमा राष्ट्रीय एकता का प्रतीक बनेगी.”

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा बनाने का जो संकल्प लिया था वो अब पूरा होने जा रहा है, 31 अक्टूबर 2018 को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर दुनिया की सबसे पड़ी प्रतिमा ‘स्टैच्यू आफ यूनिटी’ का लोकार्पण किया जाएगा.’’

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने सरदार पटेल के कार्यों को पीछे रखने का काम किया लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सरदार पटेल के कार्यो को दुनिया के सामने लाने का काम किया.

(इनपुट: एजेंसी)