तिरुवनंतपुरम. आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में धर्म एक बड़ा मुद्दा बनने जा रहा है. इसका अंदाजा केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के चुनावी अभियान शुरू करने के स्थान के चयन से लगाया जा सकता है. भाजपा केरल में उस जगह से अपने चुनावी अभियान की शुरुआत करने जा रही है, जहां भगवान अयप्पा का मंदिर, यानी सबरीमला मंदिर (Sabrimala Temple) है. अभियान का शंखनाद पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) करेंगे. दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव-2019 के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत 6 जनवरी को केरल के पत्तनमथिट्टा से करेंगे. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एक वरिष्ठ नेता ने गुरुवार को यह जानकारी दी.

यहां संवाददाताओं से बात करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पी.एस. श्रीधरन पिल्लई ने कहा कि मोदी आंध्र प्रदेश से पत्तनमथिट्टा आएंगे. पत्तनमथिट्टा यहां से लगभग 120 किलोमीटर दूर है. पिल्लई ने कहा, “वे यहां चुनाव प्रचार के लिए आ रहे हैं.” केरल की 140 सीटों वाली विधानसभा में भाजपा का एकमात्र विधायक है. पार्टी को लोकसभा चुनाव में अपने अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है. भाजपा 2014 के लोकसभा चुनावों में तिरुवनंतपुरम सीट पर दूसरे स्थान पर रही थी. मोदी का पत्तनमथिट्टा आना एक कूटनीतिक दांव माना जा रहा है, क्योंकि इसी जिले में सबरीमाला मंदिर स्थित है. इस मंदिर में 10 से 50 वर्ष तक की महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को हटाते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने 28 सितंबर को आदेश जारी कर सभी आयुवर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी थी.

सर्वोच्च न्यायालय के इस आदेश के खिलाफ भाजपा ने पुरातनपंथियों को गोलबंद कर कई दिनों तक जोरदार प्रदर्शन किया था. केरल पार्टी अध्यक्ष पी.एस. श्रीधरन पिल्लई ने रथयात्रा निकाली थी और बयान दिया था कि राज्य में भाजपा को आगे बढ़ाने का यही बेहतर मौका है. उन पर भड़काऊ बयानबाजी करने का मुकदमा भी दर्ज है. धार्मिक स्थल से भाजपा के चुनाव अभियान शुरू करने के बाद यह अंदाजा लगाना सहज है कि लोकसभा चुनाव के दौरान धर्म, राम मंदिर निर्माण जैसे मुद्दे हावी रह सकते हैं.

(इनपुट – एजेंसी)