नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 2014 से भेंट में दिए गए 1800 मोमेंटो की रविवार को यहां राष्ट्रीय आधुनिक कला दीर्घा (एनजीएमए) में नीलामी की गई. आयोजकों ने बताया कि नीलामी से इकट्ठा धन का इस्तेमाल नमामि गंगे परियोजना में किया जाएगा. नीलाम की गई वस्तुओं में तलवारें, संगीत वाद्य यंत्र, पगड़ियां, शॉलें, अंगवस्त्रम, जैकेट, तीर व कमान, मास्क, कैनवास, ऐतिहासिक जगहों व हस्तियों की तस्वीरें और धातु, पत्थर, लकड़ी व प्लास्टर ऑफ पेरिस से तैयार मूर्तिकला से संबंधित चीजें थीं. पीएम मोदी की एक पेंटिंग और उन्हें उपहार में मिली लकड़ी की एक बाइक की प्रतिकृति की नीलामी पांच-पांच लाख रुपए में हुई, जिनका आरक्षित मूल्य क्रमश: 50 हजार और 40 हजार रुपए निर्धारित किया गया था.

केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने सोमवार को बताया कि प्रधानमंत्री को मिले उपहारों की दो दिन तक चली नीलामी में इन दोनों स्मृतिचिह्नों की सर्वाधिक बोली लगी. उन्होंने बताया कि सोमवार को नीलामी का अंतिम दिन था जिस दौरान 1900 चीजों में से 270 की नीलामी हुई. बाकी बचे उपहारों की ई-नीलामी मंगलवार से www.pmmementos.gov.in पर शुरू होगी और 31 जनवरी तक चलेगी. ई-नीलामी पूरी होने के बाद इससे मिली कुल राशि का इस्तेमाल ‘नमामि गंगे’ परियोजना के लिए किया जाएगा. शर्मा ने बताया कि स्वर्ण मंदिर का एक स्मृति चिह्न 3.5 लाख रुपए में बिका है जिसका आरक्षित मूल्य 10 हजार रुपए तय किया गया था. इस मौके पर रेलवे मंत्री पीयूष गोयल मौजूद थे. उन्होंने उपहारों का इस्तेमाल नमामि गंगा परियोजना के लिए करने पर प्रधानमंत्री को सराहा.

नीलामी में रखी गईं वस्तुओं का आधार मूल्य प्रधानमंत्री कार्यालय व संस्कृति मंत्रालय द्वारा तय किया गया था. इन्हें नीलामी से पहले एनजीएमए परिसर में तीन महीने तक प्रदर्शित किया गया. एनजीएमए के महानिदेशक अद्वैत गणनायक ने कहा, “नीलामी पहले अक्टूबर 2018 में होनी थी लेकिन तैयारियों के कारण इसमें विलंब हुआ.” नीलामी के कमरे में बोली लगाने वालों का उत्साह चरम पर था. वस्तुओं की बोली लगाने के लिए देशभर से कम से कम 60 खरीदार पहुंचे थे. 1800 चीजों में महज आधे घंटे में ही सौ से अधिक बिक गईं. नीलामी सोमवार को भी जारी रहेगी.

(इनपुट – एजेंसी)