नई दिल्ली/लखनऊ. लखनऊ के गोमतीनगर इलाके में एक मल्टीनेशनल कंपनी के मैनेजर को कथित तौर पर यूपी पुलिस के सिपाही द्वारा गोली मारने का मामला सामने आया है. मृतक की पत्नी ने भी पुलिस पर आरोप लगाया है और मांग की है कि सीएम उनके पास आएं और इस मुद्दे पर बात करें. वहीं, मृतक के भाई ने सीबीआई जांच की मांग की है.

बताया जा रहा है कि ऐपल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी आईफोन की लॉन्चिंग से लौट रहे थे. रास्ते में पुलिस ने उन्हें गाड़ी रोकने का इशारा किया तो बात बढ़ गई और कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी ने कथित तौर पर उनपर गोली चला दी. इसके बाद कार से उनका बैलेंस बिगड़ गया और वे दुर्घटना का शिकार हो गए. घटना के समय उनके साथ उनकी एक साथी भी थी, जिसे भी चोट लगने की बात कही जा रही है.

पुलिस ने ये कहा
पुलिस का कहना है कि कॉन्स्टेबल को हिरासत में ले लिया गया है. कॉन्स्टेबल ने कार को संदिग्ध स्थिति में देखने के बाद गोली चलाई थी, जिसके बाद कार का ड्राइवर घायल हो गया था. पुलिस को देखने के बाद वह भागने कोशिश कर रहा था और गाड़ी एक दीवाल से टकरा गई. चोट लगने की वजह से उसकी मृत्यु हो गई. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके मौत की वजह का पता लगाया जा रहा है.

मृतक की पत्नी ने ये कहा
मृतक की पत्नी ने कहा, दो बजे तक वह अपने पति को लगातार फोन मिला रही थीं, लेकिन उनका फोन नहीं उठ रहा था. 3 या 3.15 के बीच एक आदमी ने फोन उठाया और बताया कि मेरे पति और एक मैडम को चोट लग गई है और लोहिया अस्पताल में इलाज चल रहा है. उस आदमी ने खुद को लोहिया का कर्मचारी बताया. पुलिस का फोन क्यों नहीं आई.

मृतक की पत्नी ने पुलिस पर लगाया आरोप
मैं अभी जाकर देख कर आ रही हूं तो मालूम हुआ कि गाड़ी को सामने से गोली चलाई गई है. मैं पुलिस की बात मानती हूं कि वह लड़की के साथ संदिग्ध हालत में थे. अगर ऐसा होता तो तुम पकड़ते कार्रवाई करते. वह गाड़ी नहीं रोक रहे थे तो तुम नंबर से आरटीओ ऑफिस से उनका पता मालूम करते और यहां आकर गिरफ्तार करते. इस पूरे मामले में पुलिस लीपापोती कर रही है. मैं मांग करती हूं कि मुख्यमंत्री हमसे बात करें उसके बाद ही डेडबॉडी का कुछ होगा.