नई दिल्ली| सड़क से संसद तक पहुंचने की नेतागिरी अब क्लासरूम में पढ़ाई और सिखाई जाएगी. नेता और उनसे जुड़े अन्य पहलुओं पर कोर्स चलाने वाला यह देश का संभवत: पहला पीजी कोर्स है. इसका नाम पोस्ट ग्रेजुएशन इन पॉलिटिकल लीडरशिप एंड गवर्नेंस है. इस कोर्स को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ी संस्था प्रबोधिनी ने मुंबई से सटे उत्तन में शुरू किया है.Also Read - Mumbai Fire: मुंबई में भाटिया हॉस्पिटल के पास 20 मंजिला इमारत में भीषण आग, 2 की मौत, 15 जख्मी

नेता बनने के लिए पहले ही बैच में कुल 32 युवाओं ने दाखिला लिया है. इनमें एमबीए से लेकर आईआईटी करने वाले लोग भी शामिल हैं. नौ माह के इस कोर्स की फीस ढाई लाख रुपये है. इसके लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक होगी. पहले बैच में 40 सीटें होंगी. Also Read - अपने पुराने स्कूटर पर मुंबई की गलियां नापते थे Kapil Sharma, लोग हंसते थे फिर...बहुत कुछ है बताने को अभी

संघ की संस्था रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी के इंडियन इंस्टीट्यूट आफ डेमोक्रेटिक लीडरशिप (आईआईडीएल) में नेतागिरी के पहले बैच की पढ़ाई बुधवार से शुरू हुई. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसकी शुरुआत की. उन्होंने इस मौके पर कहा कि इससे देश में राजनीतिक क्षेत्र में नए और बेहतर लोग सामने आएंगे. Also Read - Mumbai Local Train Latest News: मुंबई में 14 घंटे तक नहीं चलेंगी लंबी दूरी की लोकल ट्रेनें, जानिए क्या है वजह

कोर्स के दौरान छात्रों को संस्थान में ही रहना होगा. इसमें हॉस्टल, वाईफाई, जिम समेत अन्य सुविधाएं दी जाएंगी. राजनेताओं, नौकरशाहों, समाजसेवियों, विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के समय-समय पर भाषण होंगे.

इससे पहले संस्थान 35 साल से ज्यादा उम्र के नेताओं और निर्वाचित प्रतिनिधियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाता रहा है. बीजेपी मंत्रियों के स्टाफ को भी संस्थान ने प्रशिक्षण दिया था.