वेटिकन सिटी: पोप फ्रांसिस ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय समुदाय का आह्वान किया कि वह बाढ़ से प्रभावित केरल के पीड़ितों की ठोस मदद करें. उन्होंने इस बाढ़ को भयानक आपदा करार दिया. वेटिकन न्यूज के मुताबिक पोप फ्रांसिस ने सेंट पीटर्स स्क्वायर पर बाढ़ पीड़ितों के लिए प्रार्थना की. उन्होंने कहा, ”केरलवासी भारी बारिश से आई बाढ़ की विभीषिका में फंस गए हैं. व्यापक जनहानि हुई है, कई लोग लापता और विस्थापित हैं. फसलों और घरों को भी काफी नुकसान पहुंचा है.” बता दें कि केरल में आठ अगस्त से हो रही मूसलाधार बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. Also Read - अर्जेंटीना में गर्भपात को कानूनी वैधता देने वाला बिल पास, पोप फ्रांसिस ने विधेयक पर जताई थी आपत्ति

पोप फ्रांसिस ने ने उम्मीद जताई कि ”इन भाइयों और बहनों” को अंतरराष्ट्रीय समुदाय की एकजुटता और ठोस मदद मिलेगी. उन्होंने केरल के चर्चों का भी जिक्र किया जो लोगों को मदद पहुंचाने के लिए अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं. पोप फ्रांसिस ने इसके बाद वहां उपस्थित लोगों के साथ पीड़ितों के लिए प्रार्थना की.

करीब एक शताब्दी में राज्य में आई सबसे भीषण बाढ़ से आठ अगस्त से करीब 300 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि तीन लाख 14 हजार से ज्यादा लोगों को राहत शिविरों में पनाह लेनी पड़ी. एनडीआरएम ने यह भी कहा कि राज्य के बाढ़ प्रभावित इलाकों से विभिन्न एजेंसियों ने 33,000 से ज्यादा लोगों को निकाला गया है. 6.3 लाख से ज्यादा लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं. केंद्रीय मंत्रालय बाढ़ से त्रस्त केरल में राहत कार्यों में हरसंभव मदद कर रहा है, जहां 3757 मेडिकल राहत शिविर बनाए गए हैं.