फोटो क्रेडिट-न्यूज़ 24Also Read - क्या दूर होगी अन्नदाताओं की नाराजगी? सरकार ने गेहूं, सरसो समेत इन फसलों के MSP में की बढ़ोतरी, देखें नया रेट लिस्ट

Also Read - मोदी सरकार का बड़ा फैसला- जम्मू कश्मीर में अब कोई भी खरीद सकेगा जमीन, गृह मंत्रालय ने जारी किया नोटिफिकेशन

भारत सरकार ने जैसे ही पोर्न साइट्स पर बैन लगाया वैसे ही पुरे देश में इसका विरोध करने वालों की लंबी कतार गई। हर तरफ से सरकार का विरोध होने लगा। नेता हो या अभिनेता सभी सरकार की आलोचना में जुट गए। विवाद इतना बड़ा की सरकार को अपना फैसला यह कहते हुए वापस लेना पड़ा की उन्‍होंने सिर्फ चाइल्‍ड पोर्न को बैन किया है। Also Read - कांग्रेस एक रिटायर्ड के जज के जरिए भगोड़े नीरव मोदी को बचाने की कोशिश कर रही है: केंद्रीय मंत्री प्रसाद

कई बार बलात्कार के आरोपियों ने यह खुलासा किया है कि पोर्न देखकर ही उन्होंने इस वाकये को अंजाम दिया। इसलिए हम आपको बताना चाहते है कि यदि किसी को पोर्न साईट देखने की लत है तो उसको कई तरह के मानसिक और शारीरिक रोग घेर लेते हैं। दिमाग की सोचने-समझने की शक्ति कुंद हो जाती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि ये न केवल अपराधों की ओर व्यक्ति को ले जाती है बल्कि अनिद्रा, कम भूख लगने और चिडचिडाहट की वजह आगे चलकर बन सकती है।

यौन अपराधों से जुड़े ज्यादातर व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार होते हैं। सेक्स की लालसा पूरी नहीं होने पर लोग पोर्न फिल्में देखते हैं, जिससे अपराधों का ग्राफ बढ़ता है। यौन संबंधी 50 प्रतिशत अपराध मानसिक विकार के कारण जन्म लेते हैं। यह भी पढ़े-पोर्न वेब साइट्स को बंद करवाने के पीछे इनका था हाथ

इसलिए जरुरत है ऐसे चीजो से सबक लेने की ताकि आपको किसी प्रकार की बीमार ना हो. हालांकि पोर्न देखने को लेकर लोगो की अपनी अलग राय ही सामने आती है. हर कोई इसके पीछे अपना अलग ही तर्क देता है। यह भी पढ़े-ऐसा किसने कहा कि 6 लाख कंडोम का मतलब होता है 6 लाख बार रेप