देहरादून: हाल में उपचुनावों में भाजपा को मिली हार के बावजूद केंद्रीय कैबिनेट मंत्री प्रकाश जावडेकर ने शुक्रवार को कहा कि वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में विपक्षी दलों की एकजुटता नहीं चलेगी. एक संवाददाता सम्मेलन में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि ये विपक्षी दल ‘देश की निस्वार्थ भाव से सेवा कर रहे एक व्यक्ति के खिलाफ इकट्ठा हुए हैं और ऐसे गठबंधन नहीं चलते.’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी देश की निस्वार्थ भाव से सेवा कर रहे हैं और ऐसे में उनके खिलाफ ‘मोदी हटाओ’ का नारा लेकर एकजुट हुए विपक्षी दलों के गठबंधन का कोई मतलब नहीं है.

आपातकाल का जिक्र करते हुए जावडेकर ने कहा कि उस समय ‘लोकतंत्र बचाओ’ जैसे महत्वपूर्ण मसले पर विपक्षी दल इकट्ठे हुए थे लेकिन इस समय इन दलों की एकजुटता के लिए कोई मसला ही नहीं है.

उपचुनावों में मिली हार के बावजूद बीजेपी को भरोसा, ‘मोदी फैक्‍टर’ दिलाएगा 2019 में जीत

हाल में उपचुनावों में पार्टी को मिली पराजय के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उपचुनाव और आमचुनाव के मिजाज में फर्क होता है. उन्होंने कहा कि आम चुनावों में प्रधानमंत्री चुनाव प्रचार करते हैं और अपनी बात लोगों के सामने रखते हैं और मतदाता भी ज्यादा संख्या में अपना मत देने के लिए बाहर निकलते हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि पार्टी हर हार पर विचार करती है और उसका विश्लेषण कर सुधार भी करती है.

उपचुनाव के नतीजों का साइड इफेक्‍ट: भाजपा के पास लोकसभा में केवल एक सीट का बहुमत

भ्रष्टाचार के मसले पर कड़ा रुख रखने का दावा करने वाली केंद्र और भाजपा शासित राज्य सरकारों द्वारा अब तक लोकायुक्त का गठन न करने के बारे में पूछे जाने पर जावडेकर ने इसके लिए विपक्षी कांग्रेस को दोषी ठहराते हुए कहा कि हम संसद में विधेयक ला रहे हैं लेकिन कांग्रेस उसे चलने नहीं दे रही है. उन्होंने कहा कि कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी सरकार ने तीन कानून बनाये और दो और बनाना चाहती है लेकिन कांग्रेस संसद न चलने देकर उन्हें रोक रही है.
कैराना-नूरपुर की हार पर बोले मंत्रीजी, ‘हमारे वोटर तो बच्‍चों संग गर्मी की छुट्टियां मनाने गए थे’

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के संबंध में जावडेकर ने कहा कि घरेलू बाजार में उनकी कीमतें अंतरराष्ट्रीय बाजार में उनकी कीमतों पर निर्भर करती हैं. हालांकि, उन्होंने पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को चिंता का विषय बताते हुए कहा कि जल्द ही इसके लिए दीर्घावधि योजना घोषित की जायेगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार अनुसूचित जाति और जनजाति सहित समाज के सभी कमजोर वर्गों को साथ लेकर चलने की पक्षधर है.