नई दिल्ली: केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री और शिव लिंग पर कांग्रेस नेता शशि थरूर का बयान पार्टी की मानसिकता को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि 1984 में चुनाव के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विपक्ष को ‘बिच्छु’ कहा था. उन्होंने कांग्रेस पर परोक्ष रूप से माओवादियों का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्र और छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार आने वाले कुछ वर्षों में नक्सलवाद की समस्या को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है.

गौरतलब है कि राज्य में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने हैं. इस संबंध में टिप्पणी के लिए कांग्रेस का कोई नेता उपलब्ध नहीं हो सका. जावड़ेकर ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘जब छत्तीसगढ़ का गठन हुआ राज्य में कांग्रेस सत्ता में थी और नक्सलवाद अपने चरम पर था. नक्सलवादियों के नियंत्रण वाला क्षेत्र पहले के मुकाबले घटकर एक तिहाई रह गया है.’’

उन्होंने शशि थरूर द्वारा दिए गए उस तथाकथित बयान की आलोचना की जिसमें थरूर ने दावा किया था कि आरएसएस के एक सूत्र ने किसी पत्रकार से कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिवलिंग पर बैठे उस बिच्छु की तरह हैं जिन्हें न तो हाथ से हटाया जा सकता है और न ही चप्पल से मारा जा सकता है.’’

टिप्पणी के बारे में सवाल करने पर जावड़ेकर ने कहा, ‘‘कांग्रेस कयास लगा रही है कि राजनीतिक स्तर पर मोदी का मुकाबला कैसे करें, इसलिए वह अपमान करने पर उतर आई है. राहुल बाबा रोज-रोज अपमान करते हैं..लोग वही करेंगे जो उन्हें आता है. शशि थरूर थोड़े सभ्य हैं लेकिन वह भी बिच्छु वाली टिप्पणी पर आ गए हैं.’

उन्होंने कहा, ‘‘1984 में कांग्रेस का विज्ञापन था. राजीव गांधी 1984 के चुनावों में विपक्ष को बिच्छु कहने वाला विज्ञापन लेकर आए थे. यह कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है.’’

(इनपुट भाषा)