बेंगलूरू: भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को कांग्रेस पर एक बड़ा आरोप लगाया है. बीजेपी ने कहा कि सरकार बनाने का दावा करने के लिए कांग्रेस ने राज्यपाल को सौंपी विधायकों की सूची में अपने कई विधायकों के फर्जी हस्ताक्षर किए थे. केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि किसी को भी यह बात समझ में नहीं आ रही है कि विधायकों के बेंगलूरू पहुंचने और कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले उसने सभी के हस्ताक्षर कैसे ले लिए. Also Read - Irrfan Khan की मौत पर पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने जताया दुख, कहा- उन्हें हमेशा किया जाएगा याद

Also Read - दिल्ली हिंसा के लिए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी जिम्मेदारः प्रकाश जावड़ेकर

ये भी पढ़ें: कर्नाटक में मिले झटके की भरपाई के लिए कांग्रेस का ‘गोवा प्लान’, RJD भी आई साथ Also Read - एपीजे अब्दुल कलाम पर बनने जा रही है फिल्म, केंद्रीय मंत्री ने पोस्टर किया जारी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लिए फर्जी हस्ताक्षर और अन्य दस्तावेज पेश करना कोई नई बात नहीं है. उन्होंने कहा कि मणिपुर में जब खंडित जनादेश आया था तब भी कांग्रेस ने मणिपुर पीपुल्स पार्टी के समर्थन का एक फर्जी पत्र सौंपा गया था. उन्होंने बताया कि कांग्रेस पार्टी ने इसमें जालसाजी की थी. बते दें कि येदियुरप्पा के गुरुवार को सीएम पद की शपथ लेने के बाद से कर्नाटक की राजनीति और गर्मा गई है. कांग्रेस और जेडीएस ने आरोप लगाया है कि सुरक्षा हटाने के बाद बीजेपी की ओर से विधायकों से फिर से दोबारा संपर्क किया गया है.

ये भी पढ़ें: कर्नाटक में सत्ता संघर्ष को लेकर उच्चतम न्यायालय में चला हाई वोल्टेज ड्रामा

वहीं कांग्रेस विधायक रामलिंगा रेड्डी ने क‍हा कि बीजेपी के लोग रिसॉर्ट के अंदर आए और विधायकों को पैसों का लालच दिया. उनसे फोन पर भी संपर्क करने की लगातार कोशिश करने का आरोप उन्‍होंने लगाया. उन्‍होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस विधायकों को कहीं दूसरी जगह ले जाया जा सकता है. इससे पहले येदियुरप्‍पा सरकार ने बेंगलोर के पुलिस प्रशासन में बड़ा बदलाव करते हुए चार आईपीएस अधिकारियों के तबादले किए. इसके बाद ईगलटन रिसॉर्ट से सुरक्षा हटा ली गई. कांग्रेस के विधायकों को कहां ले जाया जाएगा, अभी इसका फैसला नहीं किया गया है.