नई दिल्ली: पैरालंपिक कमिटी ऑफ इंडिया ने पैरा स्वीमर प्रशांत करमाकर को महिला तैराकों का वीडियो बनाने के आरोप में 3 साल के लिए निलंबित कर दिया है. जानेमाने पैरा तैराक प्रशांत करमाकर स्वीमिंग में देश के लिए कई मेडल जीत चुके हैं. लगभग एक दशक तक देश के मुख्य पैरा स्वीमर रहे करमाकर ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 37 मेडल जीते हैं. 2016 में रियो में हुए पैरालंपिक गेम्स में करमाकर को भारत की पैरा स्वीमिंग टीम का कोच भी बनाया गया था. Also Read - paraswimmer suyash failed to enter the finals | रियो पैरालम्पिक (तैराकी): फाइनल में नहीं पहुंच पाए सुयश

अर्जुन अवॉर्ड विजेता करमाकर को 2015 में मेजर ध्यान चंद अवॉर्ड से और 2014 में भीम अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था. करमाकर को वर्ष 2009 और 2011 में स्वीमर ऑफ द इयर अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था. करमाकर के नाम ऐसे पहले दिव्यांग भारतीय स्वीमर होने का रिकॉर्ड भी दर्ज है जिसने विश्व स्वीमिंग चैंपियनशिप में मेडल जीता हो. यह चैंपियनशिप अर्जेंटीना में हुई थी. इसके अलावा करमाकर ने बेंगलुरू में 2009 में हुए इंटरनेशनल व्हीलचेयर एंड एम्पयूट स्पोर्ट्स वर्ल्ड गेम्स में 4 गोल्ड मेडल, 2 सिल्वर और एक कांस्य पदक जीता था.

करमाकर अबतक अकेले ऐसे भारतीय स्वीमर हैं जिन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में कोई मेडल जीता है. करमाकर ने 2006, 2010 और 2014 में एशियन गेम्स में भी मेडल जीता है. स्वीमिंग की अलग अलग कैटेगरी जैसे 50 मीटर बटरफ्लाई, 50 मीटर ब्रेकस्ट्रोक और 50 मीटर बैकस्ट्रोक में पैरा स्वीमिंग में एशियन रिकॉर्ड भी करमाकर के ही नाम है.