पटना: बिहार में सत्ताधारी जनता दल (युनाइटेड) ने बुधवार को पार्टी का अनुशासन भंग करने के कारण चुनावी रणनीतिकार और पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) तथा वरिष्ठ नेता पवन कुमार वर्मा (Pawan Kumar Verma) को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया. पार्टी से निकाले जाने पर प्रशांत किशोर ने पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार को धन्यवाद देते हुए भविष्य के लिए उन्हें शुभकामनाएं दी है. जदयू (JDU) के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि पार्टी का अनुशासन, पार्टी का निर्णय और पार्टी नेतृत्व के प्रति वफादारी ही दल का मूलमंत्र होता है. उन्होंने कहा कि पिछले कई महीनों से दल के अंदर पदाधिकारी रहते हुए प्रशांत किशोर ने कई विवादास्पद बयान दिए. Also Read - बिहार में सोशल मीडिया पोस्ट वाले आदेश पर बवाल, तेजस्वी ने नीतीश को बताया- भ्रष्टाचार का भीष्म पितामह

केसी त्यागी ने कहा कि पार्टी ने उन्हें (प्रशांत) सम्मान दिया. किशोर ने पार्टी के अध्यक्ष के विरुद्ध अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया. पवन कुमार वर्मा की चर्चा करते हुए कहा कि उन्हें जितना सम्मान मिलना चाहिए था, उससे ज्यादा पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार (Nitish Kumar) दिए हैं. उन्होंने इस सम्मान को पार्टी की मजबूरी समझी. पार्टी अध्यक्ष को पत्र लिखकर इसे सार्वजनिक करना, उसमें निजी बातों का उल्लेख करना और उसे सार्वजनिक करना यह दर्शाता है कि दल का अनुशासन उन्हें स्वीकार नहीं है. Also Read - नीतीश सरकार का फरमान, मंत्रियों-अधिकारियों के खिलाफ सोशल मीडिया में की आपत्तीजनक टिप्पणी तो अब होगी गिरफ्तारी!

VIDEO: यूपी सरकार के मंत्री बोले- नेता का शिक्षित होना ज़रूरी नहीं, पढ़े-लिखे लोग अनपढ़ों को कर रहे भ्रमित Also Read - TET Teachers Protest In Bihar: पटना DM से जब कहा-मैं Tejashwi बोल रहा हूं, लगे जिंदाबाद के नारे

बयान में कहा गया है कि पार्टी के दोनों नेता प्रशांत किशोर और पवन वर्मा दल के अनुशासन के बंधन में नहीं रहना चाहते हैं और मुक्त होना चाहते हैं. यही कारण है कि जद (यू) दोनों नेताओं को तत्काल प्रभाव से प्राथमिकत सदस्यता और अन्य सभी जिम्मेदारियों से मुक्त करता है. पार्टी से निकाले जाने पर प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर नीतीश कुमार को धन्यवाद दिया है. किशोर ने ट्वीट में लिखा, “धन्यवाद. बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए मेरी शुभकामनाएं. भगवान आपका भले करें.”

उल्लेखनीय है कि मंगलवार रात प्रशांत किशोर ने पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार को झूठा बताते हुए जबरदस्त सियासी हमला बोला था. उन्होंने एक ट्वीट किया, “नीतीश कुमार, मुझे जद (यू) में क्यों और कैसे शामिल किया गया, इसपर झूठ बोलना दिखाता है आप गिर गए हैं. मुझे अपने जैसा बनाने की यह आपकी एक नाकाम कोशिश है. अगर आप सच बोल रहे हैं तो कौन यकीन करेगा कि आप में इतनी हिम्मत है कि आप उसकी बात नहीं सुनें, जिसे अमित शाह ने आपकी पार्टी में शामिल करवाया.”