Pravasi Bharatiya Divas 2022: भारत आज के दिन ही क्यों मनाता है प्रवासी भारतीय दिवस और क्या है इसका मतलब, 10 प्वाइंट में जानिए सबकुछ

Pravasi Bharatiya Divas 2022: आज के दिन विदेशों में बसे प्रवासी भारतीयों से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिन्होंने देश के विकास में अहम भूमिक निभाई. यहां हम दस प्वाइंट में जानेंगे कि प्रवासी भारतीय दिवस की शुरुआत कैसे हुई और ये समुदाय कैसे भारत के विकास में अहम योगदान दे रहा है.

Published: January 9, 2022 9:59 AM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Ikramuddin Saifi

PM Modi

Pravasi Bharatiya Divas 2022: देश में आज 9 जनवरी के दिन प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas- BPD) सेलिब्रेट किया जाता है. आज के दिन विदेशों में बसे प्रवासी भारतीयों से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिन्होंने देश के विकास में अहम भूमिक निभाई. यहां हम दस प्वाइंट में जानेंगे कि प्रवासी भारतीय दिवस की शुरुआत कैसे हुई और ये समुदाय कैसे भारत के विकास में अहम योगदान दे रहा है.

Also Read:

दस प्वाइंट में समझिए प्रवासी भारतीय दिवस से जुड़ी अहम बातें-
1- प्रवासी भारतीय दिवस, प्रवासी भारतीय समुदाय के साथ भारत सरकार के जुड़ाव को मजबूत करने के लिए देशभर में भव्य रूप से मनाया जाता है. इस आयोजन का प्रमुख विचार अनिवासी प्रवासी समुदाय को उनकी मूल जड़ों से फिर से जोड़ा भी है.

2- इस दिवस को मनाने के लिए 9 जनवरी को इसलिए चुना गया, क्योंकि इसी दिन साल 1915 में महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे. उन्होंने बाद में देश के स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व किया जिसने लाखों करोड़ों भारतीयों के जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया.

3- पिछले साल प्रवासी भारतीय दिवस (PBD) नौ जनवरी कोरोना वायरस महामारी की वजह से वर्चुअली आयोजित किया गया. तब इसकी थीम थी ‘आत्मनिर्भर भारत में योगदान.’ इसमें तीन सेगमेंट थे जिनका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था. इस साल भारत अपना 17वां प्रवासी भारतीय दिवस मना रहा है.

4- साल 2003 तक PBD कन्वेंशन का आयोजन हर साल राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सात से नौ जवरी तक होता रहा है. इस दिन पीबीडी बड़ी तादाद में प्रवासियों के साथ कार्यक्रम का आयोजन करता है. ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि प्रवासी भारतीयों को अपने ज्ञान, कौशल और विशेषज्ञता को साझा करने के लिए एक मंच दिया सके.

5- हालांकि साल 2015 में इसमें संशोधन किया गया और दो साल में सिर्फ एक BPD मनाने का प्रस्ताव रखा गया. जिसके बाद इसके आयोजकों ने निर्णय लिया कि कार्यक्रम थीम आधारित किए जाएं.

6- मालूम हो कि ऐसे सम्मेलनों के माध्यम से प्रवासी भारतीय समुदाय आसानी से लाभकारी गतिविधियों के लिए सरकार और देश के नागरिकों से जुड़ जाते हैं. इसके लिए अलावा ये नेटवर्किंग का भी एक माध्यम है जहां विदेशों में बसे भारतीय विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े अपने अनुभव को साझा करते हैं.

7- इस साल केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर आज 9 जनवरी को नवाचार और नई प्रौद्योगिकियों के संबंध में ‘भारतीय प्रवासियों की भूमिका’ पर प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन को वर्चुअल तरीके से संबोधित करेंगे.

8- इस समारोह में फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति, द एप्पललैब के संस्थापक सीईओ कुंदन जोशी, कुपोसडॉटेकाम के संस्थापक सीईओ अमित सोडानी, पीच पेमेंट्स के सह-संस्थापक और सीईओ राहुल जैन तथा अन्य व्यक्ति अपने विचार व्यक्त करेंगे.

9- पिछले साल नई दिल्ली में आत्मनिर्भर भारत में योगदान पर 16 वां पीबीडी सम्मेलन वर्चुअल तरीके से आयोजित किया गया था.

10- ये सम्मेलन दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले प्रवासी भारतीय समुदाय को जोड़ने में भी बहुत उपयोगी हैं और उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में अपने अनुभव साझा करने में सक्षम बनाते हैं.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें देश की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 9, 2022 9:59 AM IST