गर्भवती महिला को फ्लू से बचाव का टीका लगाने से होने वाले बच्चे को भी जन्म से चार महीने बाद तक इस बीमारी से सुरक्षा मिलती है। एक शोध में बताया गया कि इससे 70 फीसदी नवजात बच्चों में फ्लू की बीमारी का खतरा टल जाता है। अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ मेरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर व वरिष्ठ शोधार्थी मायरॉन लेवाइन ने बताया, “हमारे शोध से पता चलता है कि नवजात शिशुओं के इंफ्लूएंजा से बचाव के लिए गर्भवती माताओं का टीकाकरण करना बेहद जरूरी है।”Also Read - Pregnancy Weight Loss Diet Plan: प्रेग्नेंसी में आपको भी सताता है वजन बढ़ने का डर? तो इन चीजों को करें डाइट से बाहर, इन्हें करें शामिल

Also Read - Taarak Mehta की Aradhana Sharma ने ब्रेकअप से पहले बनाया था शारीरिक संबंध, बोलीं- ऐसी ही बस...

हालांकि विकसित देशों में गर्भवती माताओं द्वारा फ्लू का टीका लगाना बेहद आम है, लेकिन विकासशील देशों में ऐसा नहीं है। यह शोध लेसेंट जर्नल में प्रकाशित किया गया है। इस शोध को बामाको, माली और दक्षिण अफ्रीका में किया गया। शोधकर्ताओं ने कुल 4,139 गर्भवती महिलाओं का अध्ययन किया। उनमें से आधे को फ्लू का टीका लगाया गया, जबकि आधे को नहीं लगाया गया। यह भी पढ़ें: कंडोम की साइज़ को लेकर भारत में हुआ बड़ा खुलासा Also Read - Pregnancy Tips During Winter: सर्दियों में भूलकर भी ये चीजें ना खाएं प्रेग्नेंट महिलाएं, बच्चे को पहुंच सकता है नुकसान

वैज्ञानिकों ने उन महिलाओं के नवजात शिशुओं पर जन्म के छह महीने बाद तक नजर रखी। जिन महिलाओं को फ्लू का टीका लगाया गया था, उनके बच्चों में जन्म से चार महीने बाद तक टीके प्रभाव 70 फीसदी तक था।