नई दिल्ली: ‘नमो अगेन’ नारे के साथ भाजपा की 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियां चल रही हैं. आगामी आम चुनाव के मद्देनजर दिल्ली की भाजपा इकाई ने पार्टी को मजबूत करने के लिए, नगर निगम चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में निष्कासित किए गए कार्यकर्ताओं की घर वापसी के लिए दरवाजे खोल दिए हैं. भाजपा ने ऐसे कार्यकर्ताओं और नेताओं को पार्टी में फिर से शामिल करने से पहले उनसे हलफनामा लिया है. इस हलफनामे में कहा गया है कि वे फिर कभी भविष्य में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल नहीं होंगे. Also Read - बीजेपी सांसद ने लोकसभा चुनाव लड़ने को बनवाया था फर्जी जाति प्रमाण पत्र, एफआईआर

चुनाव प्रचार में अयोध्या का जिक्र, पीएम मोदी ने फैसले पर देरी के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया Also Read - जंतर-मंतर पर शांति मार्च में शामिल हुए कपिल मिश्रा, लोगों ने लगाए 'जय श्री राम' व 'भारत माता की जय' के नारे

आइन्दा गलती नहीं करेंगे !
आपको बता दें कि वर्ष 2017 में दिल्ली की तीनों नगर निगमों के लिए हुए चुनावों में पार्टी ने नए चेहरों पर दांव लगाया था और उस समय निवर्तमान पाषर्दों को टिकट देने से इनकार कर दिया था. पार्टी के इस फैसले का विरोध करते हुए तत्कालीन निवर्तमान पाषर्दों ने और टिकट से वंचित लोगों ने तब पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी थी और निर्दलीय मैदान में उतर गए थे. ऐसे बागियों पर कार्रवाई करते हुए दिल्ली प्रदेश भाजपा ने 80 से ज्यादा कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था. Also Read - केजरीवाल ने मेगा पैरेंट-टीचर मीटिंग को लेकर बीजेपी पर किया हमला, कहा- शिक्षा व्यवस्था का नहीं होना चाहिए राजनीतिकरण

दिल्ली प्रदेश भाजपा के महासचिव रविंदर गुप्ता ने कहा, ‘‘ हमने ऐसे नेताओं और कार्यकर्ताओं से यह हलफनामा लिया है कि वे पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल नहीं होंगे और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के फैसलों का पालन करेंगे. इसके बाद उन्हें पार्टी में फिर से शामिल होने की इजाजत दे दी.’’ गुप्ता ने कहा कि पिछले साल नगर निगम चुनाव के दौरान निष्कासित किए गए करीब 50 बागी पार्टी में फिर से शामिल हो गए हैं और उन्होंने लिखित में दिया है आईंदा किसी भी पार्टी विरोधी गतिविधियों में वे शामिल नहीं होंगे.

अयोध्या: राम मंदिर के लिए सोशल मीडिया, पोस्टर व रिंग टोन से लोगों तक पहुंच बना रहे साधु-संत

उन्होंने कहा कि ‘नमो अगेन’ नारे के साथ भाजपा ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं और ऐसे नेताओं के फिर से पार्टी में शामिल होने से दिल्ली में पार्टी मजबूत होगी. यहां पार्टी के सामने सभी सात सीट फिर से जीतने की चुनौती है. आगामी लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा कोई भी कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती है. पार्टी के रणनीतिकार भाजपा की जीत सुनिश्चित करने के लिए रणनीतियां बनाने और उनके कार्यान्वयन में जुटे हुए हैं. (इनपुट एजेंसी)

चार साल से सो रहे कुंभकर्ण को जगाने आया हूं, मंदिर कब बनेगा मुझे तारीख चाहिए: उद्धव ठाकरे