नई दिल्ली: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मंगलवार को रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा का केंद्रीय मंत्रिपरिषद से इस्तीफा स्वीकार कर लिया. मीडिया को जारी बयान में राष्ट्रपति भवन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह पर राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद से कुशवाहा के इस्तीफे को तत्काल प्रभाव से मंजूर कर लिया है. Also Read - क्या फिर बदलेंगे बिहार के राजनीतिक समीकरण, ओवैसी के साथ चुनाव लड़े इस नेता ने नीतीश से की मुलाकात, मिलेगा मंत्री पद!

Also Read - Bihar Chunav Analysis: समय रहते राजद ने दिखाया होता बड़प्पन तो आज सीएम होते तेजस्वी यादव!

मंत्री पद से इस्‍तीफा देने के पीछे उपेंद्र कुशवाहा की नाराजगी की रही ये वजह Also Read - 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट तैयार, 9 नवंबर को राष्ट्रपति को सौंपेंगे चेयरमैन एनके सिंह

कुशवाहा ने सोमवार को भाजपा से अपने संबंध तोड़ते हुए मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. कुशवाहा ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने मंत्रिमंडल का कद घटाकर उसे महज एक ‘रबर स्टांप’ बना दिया, पिछड़े वर्ग को ‘धोखा’ दिया और बिहार को सिर्फ ‘जुमले’ दिये. संसद के शीतकालीन सत्र से एक दिन पहले बिहार से राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) नेता ने कहा कि उनके लिये विपक्षी गठबंधन में जाने का विकल्प खुला है, जिसमें लालू प्रसाद की राजद और कांग्रेस हैं. उन्होंने दावा किया कि भाजपा के नेतृत्व वाला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन राज्य में एक भी सीट नहीं जीत पाएगा.