मनीला: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को फिलीपींस में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि संघर्ष और हिंसा के इस दौर में भारतीय सभ्यता के मूल्य लोगों और देशों के बीच में शांति तथा मैत्री सुनिश्चित कर सकते हैं. मनीला में भारतीय समुदाय के स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए कोविंद ने फिलीपींस की अर्थव्यवस्था और समाज में भारतीय प्रवासियों के योगदान की सराहना की और कहा कि इनकी वजह से भारत और भारतीयों की छवि बेहतर हुई है. राष्ट्रपति इस दक्षिण पूर्वी एशियाई देश की पांच दिन की यात्रा पर हैं.

 

उन्होंने इस अवसर पर कहा कि फिलीपींस में हमारा समुदाय दशकों से दोनों देशों के बीच मित्रता की मजबूत कड़ी है. पिछले कुछ वर्षों के दौरान प्रवासियों की संख्या में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने कहा कि इतने दूर देश में अपने लोगों से मिलना मेरे लिए एक भावनात्मक और विशेष अनुभव है, ये अपने प्रिय और प्रियजनों से मिलने जैसा है. कोविंद ने फिलिपींस में अपनी संस्कृति और परंपराओं को बनाए रखने के लिए भारतीय समुदाय की तारीफ की और कहा कि सभी की भलाई और खुशहाली के मकसद से अपनी विरासत और ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए आपको हरसंभव प्रयास करना चाहिए. राष्ट्रपति ने कहा कि यह हमारे लिए बेहद खुशी की बात है कि हमारे लोग जहां भी जाते हैं, वह ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ के मूल्य को भी लेकर जाते हैं.

उन्होंने कहा कि हिंसा और अशांति के इस दौर में हमारी सभ्यता के ये मूल्य लोगों और देशों के बीच शांति और मैत्री सुनिश्चित कर सकते हैं. कोविंद ने कहा कि भारत में नवाचार, निवेश, शोध और शिक्षा के क्षेत्र में जो संभावनाएं हैं, उसका लाभ प्रवासी समुदाय को उठाना चाहिए. कोविंद ने कहा कि मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया, गंगा कायाकल्प परियोजना, स्वच्छ भारत मिशन, स्मार्ट सिटी और जल जीवन मिशन जैसी प्रमुख पहलों में आपकी भागीदारी की जरूरत है. उन्होंने कहा कि फिलीपींस में भारतीय दूतावास जल्द ही मनीला में पासपोर्ट की प्रिंटिंग शुरू करेगा और इससे नया पासपोर्ट हासिल करने में लगने वाले समय में बहुत कमी आएगी. उन्होंने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के लिए सिख समुदाय को अपनी शुभकामनाएं भी दीं.