नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 अक्टूबर को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के वार्षिक दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि होंगे. विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी व मीडिया संयोजक अहमद अजीम ने बताया कि इस दीक्षांत समारोह में 2017 और 2018 में परीक्षा उतीर्ण करने वाले पांच हजार से ज्यादा विद्यार्थियों को डिग्री एवं डिप्लोमा दिया जाएगा. इनमें 360 से अधिक स्वर्ण पदक जीतने वाले छात्र भी शामिल हैं. पिछले साल, कुलपति के नहीं होने की वजह से दीक्षांत समारोह का आयोजन नहीं किया गया था.

सूत्रों ने बताया कि 29 अक्टूबर को जामिया के स्थापना के 99 साल पूरे होंगे. अगले साल जामिया की स्थापना के 100 साल पूरे होने के मौके पर विश्वविद्यालय शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित करने की कोशिश कर रहा है.

अजीम ने बताया, ‘जामिया के विजिटर कोविंद 30 अक्टूबर को आयोजित होने वाले वार्षिक दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि होंगे. वह पहली बार विश्वविद्यालय में आ रहे हैं.’ यह दीक्षांत समारोह विश्वविद्यालय के एमएके पटौदी खेल परिसर में होगा.

साल 2014 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी विश्वविद्यालय में मुख्य अतिथि थे. जामिया की स्थापना 1920 में हुई थी और 1988 में इसे केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिला था.

(इनपुट-भाषा)