नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के 63वें महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें नमन किया.

 

राष्ट्रपति कोविंद ने बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर संसद भवन परिसर में उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने ट्वीट किया कि हमारे संविधान के शिल्पी, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, शिक्षाविद् और समाज विचारक डॉ. आंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. संकुचित भेदभाव से परे, हम एक मानवीय सौहार्दपूर्ण समाज के निर्माण का संकल्प लें. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि पूज्य बाबासाहब को उनके महापरिनिर्वाण दिवस पर कोटि-कोटि नमन. उपराष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री ने भी संसद भवन परिसर में बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें नमन किया.

जाति से परे थे बाबासाहेब, एक सवर्ण शिक्षक ने ही भीमराव को बनाया था ‘अंबेडकर’

अमित शाह ने भी ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ट्वीट में कहा कि बाबासाहब आंबेडकर ने देश को एक प्रगतिशील संविधान देकर विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की नींव रखी. वह अपनी अंतिम सांस तक वंचितों और शोषितों की प्रखर आवाज बने रहे. उन्होंने कहा कि प्रजातांत्रिक भारत के प्रणेता और सर्व-समावेशी संविधान के शिल्पकार बाबासाहब की शिक्षाएं आज भी हम सभी के लिए प्रेरक हैं. शाह ने कहा कि बाबासाहब के पास ज्ञान का अकूत भंडार था. उन्होंने सभी सुख और वैभव त्यागकर देश के पुनर्निर्माण के लिए खुद को खपा दिया. आज प्रधानमंत्री मोदी ‘सबका साथ-सबका विकास’ के मंत्र के साथ बाबासाहब के सपनों को साकार करने के लिए प्रत्यनशील हैं. उन्होंने कहा कि आज बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें कोटि-कोटि नमन.