नई दिल्ली. अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर देश में सियासत तेज हो गई है. सत्ता पक्ष आम सहमति से देश का अगला राष्ट्रपति बनाना चाहता है और इसी के चलते आज बीजेपी के नेता वेंकैया नायडू और राजनाथ सिंह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने पहुंचे हैं. राजनाथ-वेंकैया ने सोनिया से 30 मिनट तक मुलाकात की. बता दें कि विपक्ष की ओर से सोनिया गांधी को इस काम के लिए जिम्मेदारी दी गई है. इसके पहले बीजेपी की टीम ने बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा, एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल, और सीताराम येचुरी से फोन पर बात की है.

सुषमा स्वराज का नाम चर्चा:

Sushma Swaraj
राष्ट्रपति चुनाव को लेकर वैसे तो एनडीए ने अपने पत्ते नहीं खोले है मगर ऐसा बताया जा रहा है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस रेस में सबसे आगे है. सुषमा को अपने काम और अपने व्यवहार की वजह से हमेशा सम्मान मिला है. विपक्ष के कई बड़े नेताओं के साथ उन्हें संबंध अच्छे है. किसी के साथ उनका कोई मतभेद भी नहीं है. बतौर विदेश मंत्री भी उनका काम भी सराहनीय है. सोशल मीडिया पर वह मदद के लिए हमेशा तैयार रहती हैं. सुषमा को कई विपक्षीय पार्टयों का भी समर्थन प्राप्त हो सकता है.

ये नाम भी हैं चर्चा में:

sumitra-mahajan
सुषमा स्वराज के अलावा सामाजिक न्याय मंत्री थावर चंद गहलौत, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के नाम भी चर्चा में है. बीजेपी के आला नेता इन नामों पर भी विचार कर रही है. ज्ञात हो कि सत्तारूढ़ एनडीए के पास इस चुनाव में अपने उम्‍मीदवार को जिताने के लिए स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं है

विपक्ष को उपराष्टपति पद दे सकता है एनडीए:

opposition
एक हिंदी अख़बार के अनुसार आरएसएस ने बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से कहा है कि अगर उन्हें अपने पसंद का उम्मीदवार को राष्ट्रपति बनाने में दिक्कत आ रही है तो वे विपक्ष के साथ सौदेबाजी में उन्हें उपराष्ट्रपति पद दे. सोनिया गांधी से राजनाथ सिंह और वेंकैया नायडू की मुलाक़ात में इस प्रस्ताव पर भी चर्चा हो सकती है.

इस बीच कांग्रेस ने साफ़ कर दिया है कि एनडीए के विरोध में बन रहे विपक्ष के मोर्चे में दिल्ली के सत्तारूढ़ दल आम आदमी पार्टी को जगह नहीं मिलेगी. बताया जा रहा है कि सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने इसके लिए काफी प्रयास किये थे.