नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान आम लोगों के लिए एक और बुरी खबर है. अब उन्‍हें रसोई गैस के सिलेंडर, केरोसिन और विमान के ईंधन के लिए भी पहले से ज्‍यादा पैसे खर्च करने होंगे. तेल कंपनियों ने शुक्रवार को सब्सिडी वाली रसोई गैस के दाम दो रुपये प्रति सिलेंडर बढ़ा दिये, जबकि विमान ईंधन यानी एटीएफ की कीमत में सात प्रतिशत की वृद्धि की गई. इस बढ़ोतरी के बाद विमान ईंधन चार वर्ष के उच्च स्तर पर पहुंच गया.

सरकारी तेल कंपनियों के मुताबिक, दिल्ली में एटीएफ के दाम 4,688 रुपये यानी 7.17 प्रतिशत बढ़कर 70,028 रुपये प्रति किलोलीटर हो गए. विमान ईंधन में यह दूसरी सीधी वृद्धि की गई है. इससे पहले एक मई को एटीएफ की कीमत 3,890 रुपये प्रति किलोलीटर यानी 6.3 प्रतिशत बढ़ाकर 61,450 रुपये प्रति किलोलीटर की गई थी. दोनों वृद्धि की वजह से एटीएफ के दाम 2014 के बाद से सबसे अधिक हो गए. इसी प्रकार, दिल्ली में सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 491.21 रुपये से बढ़कर 493.55 रुपये प्रति सिलेंडर हो गया. मुंबई में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 491.31 रुपये और कोलकाता में 496.65 रुपये प्रति सिलेंडर हो गयी.

प्रत्येक परिवार सालभर में सब्सिडी वाले 12 सिलेंडर लेने का हकदार है. इससे अधिक खपत होने पर उसे बाजार मूल्य पर सिलेंडर उपलब्ध कराया जाता है. वहीं, बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 48.50 रुपये बढ़कर 698.50 रुपये प्रति सिलेंडर पर पहुंच गया. जनवरी के बाद लगातार गिरावट के बाद अब यह बढ़ोतरी हुई है.

मिट्टी के तेल (केरोसिन) के कीमत में 26 पैसे की वृद्धि की गयी. यह वृद्धि मिट्टी के तेल पर धीरे-धीरे सब्सिडी खत्म किए जाने के आधार पर की गयी है. दिल्ली को मिट्टी तेल मुक्त घोषित किया गया है जबकि मुंबई में इसके दाम 24.77 रुपये से बढ़कर 25.03 रुपये प्रति लीटर हो गये. सरकारी खुदरा तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय दरों और रुपया-डॉलर विनिमय दर के आधार पर हर महीने की एक तारीख को विमान ईंधन, एलपीजी और मिट्टी के तेल की दरों में संशोधन करती हैं.