नई दिल्ली: केरल में बाढ़ के चलते आई आपदा में अब तक 385 से अधिक जाने जा चुकी हैं व लाखों लोग बेघर हो गए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल के हालात पर अफसोस जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए. इसके पूर्व राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से बाढ़ प्रभावितों की हर संभव मदद करने को कहा था.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल में भयावह बाढ़ से हुए जानमाल के भारी नुकसान पर दुख जताते हुए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि इसे अविलंब राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए. गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रिय प्रधानमंत्री, कृपया बिना विलंब किये केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए. हमारे करोड़ों लोगों का जीवन, जीविका और भविष्य दांव पर है.’ गांधी ने कल राज्य के पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं का आह्वान किया था कि वे प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे बढ़ें.

केरल में बाढ़ की स्थिति को लेकर 16 अगस्त को राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की थी और राज्य के लिए विशेष वित्तीय सहायता का आग्रह किया था. गौरतलब है कि केरल में मूसलाधार बारिश व बाढ़ के चलते शुक्रवार को भी 106 लोगों की मौत हो गई. इस बाढ़ में अब तक 385 से अधिक लोग काल कवलित हो चुके हैं.

पीएम मोदी ने केरल का किया हवाई सर्वे, 500 करोड़ रुपये की मदद की घोषणा

वही राज्य में ऑक्सीजन की कमी और ईंधन स्टेशनों में ईंधन नहीं होने के कारण ये संकट और गहरा हो गया है. राज्य के 3 लाख से ज्यादा लोगों को पलायन करना पड़ा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं स्थिति का जायजा लेने केरल पहुंचे और सीएम विजय रुपानी के साथ मौजूदा हालत पर बैठक की. साथ ही उन्होंने केरल का हवाई सर्वे भी किया. पीएम ने राज्य को फौरी राहत के तौर पर पांच सौ करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की. उन्होंने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए देने की भी घोषण की है.

केरल में जल प्रलय: 385 की मौत, शिविरों में 3.14 लाख लोग, ऑक्सीजन-खाद्य पदार्थों-पेयजल की कमी