नई दिल्ली: दो दिवसीय दौरे पर जापान पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को टोक्यो में भारतीय समुदाय को संबोधित किया. पीएम ने कहा कि भारत में मंडे हो वर्किंग डे हो और मुझे सुबह 9 बजे बुलाना हो संभव नहीं है लेकिन सुबह-सुबह इतनी बड़ी तादात में आने के लिए आप सब का शुक्रिया. पीएम ने कहा कि 2016 के बाद मैं जापान में भारतीय लोगों से आज मिल रहा हूं. पीएम ने कहा कि जिस तरह दिवाली में दीपक जलते हैं और उजाला फैलाते हैं उसी तरह आप भी जापान और दुनिया के हर कोने में अपना और देश का नाम रोशन करें.

पीएम ने कहा कि देश बदलाव के दौर से गुजर रहा है. दुनिया भारत की तारीफ कर रही है. मानवता के लिए उठाए गए कदमों की तारीफ हो रही है. डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्टर के क्षेत्र में बहुत विकास हुआ है. ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी गांवों में पहुंच रही है. भारत में 100 करोड़ से ज्यादा मोबाइल फोन एक्टिव हैं. एक जीबी डाटा एक बोतल कोल्डड्रिंक से सस्ता है. यह डाटा आज सर्विस को लोगों तक पहुंचाने का जरिया बन गया है.

पीएम मोदी ने प्रवासी भारतीयों से कहा कि आप वह पुल हैं जो भारत और जापान को दोनों देशों के लोगों को, संस्कृति और आकांक्षाओं को जोड़ते हैं. जापान में 30 हजार से अधिक का भारतीय समुदाय हमारी संस्कृति के प्रतिनिधि के रूप में काम कर रहा है. जापान में बसे भारतीयों ने जापानी दोस्तों के साथ मिलकर हमेशा से ही देश के लिए बहुत बड़ा योगदान दिया है. स्वामी विवेकानंद को, नेताजी सुभाष चंद्र बोस को, भारत की आजादी के आंदोलन को जो सहयोग जापान से मिला है, वह करोड़ों भारतीयों के दिल में हमेशा रहेगा.

मेन इन इंडिया ग्लोबल ब्रान्ड बनकर उभरा है. हम न केवल भारत के लिए बल्कि दुनिया के लिए क्वालिटी प्रडोक्ट बना रहे हैं. इंडिया ग्लोबल हब बन गया है खासकर इलेक्ट्रॉनिक और ओटोमोबाइल के फिल्ड में. मोबाइल फोन बनाने के मामले में हम नंबर एक की तरफ बढ़ रहे हैं.पिछले साल हमारे वैज्ञानिकों ने स्पेस में एकसाथ 100 सेटेलाइट छोड़कर रिकॉर्ड बनाया. हमने बहुत ही कम खर्च में चंद्रयान और मंगलयान भेजा. 2022 तक भारत स्पेस में गगनयान भेजने की तैयारी कर रहा है. हमारे वैज्ञानिक शानदार काम कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने जापान में रह रहे भारतीय समुदाय को अगले साल वाराणसी में होने जा रहे प्रवासी भारतीय सम्‍मेलन में शिरकत करने के लिए आमंत्रित किया. पीएम ने कहा कि हम हर साल सरदार पटेल की जयंती मनाते हैं लेकिन इस बार पूरा दुनिया का ध्यान हमारी तरफ है. सरदार पटेल के गृहराज्य गुजरात में पटेल की मूर्ति स्थापित की गई है जो पूरी दुनिया में सबसे ऊंची है. सरदार पटेल की प्रतिभा जितनी ऊंची थी उनकी प्रतिमा भी उतनी ही ऊंची होनी चाहिए.