नई दिल्लीः आज स्वामी विवेकानंद जी की जयंति है और इस अवसर पर पीएम मोदी बेलूर मठ पहुंचे. इस खास मौके पर पीएम मोदी ने देशभर के युवाओं को संबोधित किया. पीएम मोदी दो दिन की पश्चिम बंगाल की यात्रा पर हैं और आज उनका दूसरा दिन है. पीएम मोदी ने बेलूर मठ में ध्यान भी लगाया. इससे पहले उन्होंने मठ के संतो से आशीर्वाद लिया. Also Read - FATF Grey List: Imran Khan को फिर लगा झटका, FATF की 'ग्रे लिस्ट' में बना रहेगा पाकिस्तान

आपको बता दें कि युवाओं को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी कोलकाता के लिए रवाना होंगे जहां वे पोर्ट ट्रस्ट के कार्यक्रम में भाग लेंगे. अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि बेलूर मठ में आना ही अपने आप में किसी तीर्थयात्रा से कम नहीं है. और मैं अपने आप को भाग्यशाली समझता हूं कि मुझे फिर से यहां आने का मौका मिला. Also Read - खुलेगा बातचीत का रास्ता! भारत-पाकिस्तान ने संघर्षविराम समझौतों का पालन करने पर जताई सहमति


पीएम मोदी ने कहा कि मुझे यहां रुकने का मौका मिला इसके लिए मैं यहां के प्रशासन और राज्य सरकार का आभार प्रकट करता हूं. बता दें कि पीएम मोदी के संबोधन में पांच से छह हजार छात्रों ने भाग लिया. यहां आने से पहले पीएम ने मठ में पूजा अर्चना भी की.

स्वामी विवेकानंद जी की जयंति के अवसर पीएम ने देश के छात्रों और युवाओं को कई संदेश दिए. उन्होंने कहा कि भारत के पास युवाओं के रूप में ऐसी ताकत है जो आज किसी के पास नहीं है. उन्होंने कहा कि लाइफ मे कभी भी समस्याओं को टालना नहीं चाहिए बल्कि इसका डटकर सामना करना चाहिए.


इस मौके पर उन्होंने देशभर के युवाओं से एनआरसी और सीएए पर भी बात की. उन्होंने कहा कि इससे किसी भी भारतीय को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि हम इसमें नागिरकता दे रहे हैं, किसी की नागरिकता छीन नहीं रहे हैं. अपने संबोधन में उन्होंने इस बिल का विरोध कर रहे राजनीतिक दलों पर भी निशाना साधा.


उन्होंने इशारों इशारों में युवाओं से कहा कि इस कानून के बारे में जितना अच्छे से आप समझ रहे है इसके वो फायदे राजनीतिक दल नहीं समझ पा रहे हैं इसलिए वे इसका विरोध कर रहे हैं. पीएम मोदी का यह इशारा साफ तौर पर ममता बनर्जी की तरफ था क्योंकि बंगाल में इस कानून को लेकर काफी विवाद देखने को मिला और यह अभी भी हो रहा है.