रायपुर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में देश के पहले एकीकृत कमान और नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण किया. राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने यहां बताया कि प्रधानमंत्री मोदी सुबह भारतीय वायुसेना के विमान से रायपुर के स्वामी विवेकानंद विमानतल पहुंचे. विमानतल पर मुख्यमंत्री रमन सिंह, उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने उनका स्वागत किया. अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री विमानतल से सड़क मार्ग से नया रायपुर स्मार्ट सिटी पहुंचे जहां उन्होंने बिजली, पानी, स्वच्छता, यातायात प्रबंधन, एकीकृत भवन प्रबंधन, सिटी कनेक्टिविटी एवं इंटरनेट अधोसंरचना (डाटा सेंटर) और सम्पूर्ण नया रायपुर शहर की निगरानी के लिए एकीकृत कमान एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण किया.

प्रधानमंत्री मोदी इस दौरान स्कूली बच्चों से भी मिले और उनसे स्वच्छता संबंधी आदतों को लेकर बातचीत की. अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री ने जिस एकीकृत कमान एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण किया है वह देश का अपने आप में अकेला और उच्च स्तरीय तकनीक पर काम करने वाला केन्द्र है. उन्होंने बताया कि यह केन्द्र देश के अन्य स्मार्ट शहरों के लिए रोल मॉडल बनेगा. यहां विभिन्न सुविधाओं को नियंत्रित करने के साथ ही इनसे जुड़ी जानकारी ली जा सकती है.

30 मिनट तक रुके
अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी इस केन्द्र में लगभग 30 मिनट तक रूके तथा उनके समक्ष इस केन्द्र की कार्यप्रणाली का प्रस्तुतिकरण दिया गया. उन्होंने बताया कि यह केन्द्र नया रायपुर विकास प्राधिकरण द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्मार्ट सिटी की परिकल्पना के अनुरुप स्थापित किया गया है. अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री नया रायपुर में कार्यक्रम के बाद भिलाई के लिए रवाना हो गए जहां वह भिलाई नगर के जयंती स्टेडियम में आमसभा को संबोधित करेंगे.

उड़ान की सौगात देंगे
मोदी इस अवसर पर केन्द्र सरकार की ‘उड़ान’ योजना के तहत जनता को रायपुर से जगदलपुर तक यात्री विमान सेवा की भी सौगात देंगे. उनके हाथों इस विमान सेवा के शुभारंभ के साथ ही राज्य का आदिवासी बहुल बस्तर संभाग देश के हवाई यातायात के मानचित्र में शामिल हो जाएगा. अधिकारियों ने बताया कि मोदी इसके अलावा भिलाई इस्पात संयंत्र के आधुनिकीकरण और विस्तारीकरण परियोजना का लोकार्पण और छत्तीसगढ़ में इंटरनेट कनेक्टिविटी के विस्तार के लिए भारत नेट परियोजना के द्वितीय चरण का भूमिपूजन तथा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) भिलाई नगर के विशाल भवन का शिलान्यास भी करेंगे.