जकार्ता. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 दिवसीय दौर के पहले चरण में इंडोनेशिया में हैं. बुधवार को उन्होंने राष्ट्रपति जोको विदोदो के साथ प्रतिनिधिमंडल की बातचीत के बाद नेशनल मॉन्यूमेंट में पहली बार आयोजित संयुक्त पतंग प्रदर्शनी का उद्घाटन कर पतंगबाजी की. इसके बाद वह इंडोनेशिया की प्रसिद्ध इस्तिकलल मस्जिद पहुंचे. यहां से वह अर्जुन का रथ देखने सेंट्रल जकार्ता पहुंचे.

बता दें कि भारत और जकार्ता के बीच शिक्षा, प्रौद्योगिकी, समुद्र में सुरक्षा, कारोबार, रेलवे और निवेश पर 15 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘ ‘ रामायण ’ और ‘ महाभारत ’ की थीम पर आधारित प्रदर्शनी का उद्घाटन दोनों नेताओं ने एकसाथ किया.’’

बयान में कहा गया, ‘‘दोनों नेताओं ने जर्काता के लयांग-लयांग संग्रहालय और अहमदाबाद के पतंग संग्रहालय के बीच हुए समझौते का स्वागत किया. साथ ही दोनों ने जर्काता के ‘नेशनल मॉन्यूमेन्ट’ में रामायण और महाभारत की थीम पर आधारित पहली संयुक्त पतंग प्रदर्शनी की सराहना भी की.’’प्रदर्शनी की थीम के अनुरूप कई पतंगों पर भगवान राम, रावण का वध करते भी नजर आए.

रामायण थीम को इंडोनेशियाई आयोजकों और महाभारत थीम को भारतीय आयोजकों ने डिजाइन किया है. मोदी पूर्वी एशिया के तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले चरण में कल इंडोनिशया की राजधानी जकार्ता पहुंचे थे. इंडिया की ‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’ को मजबूत करने के लिए इस दौरान मोदी मलेशिया और सिंगापुर भी जाएंगे.