मंडला. पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्यप्रदेश के मंडला पहुंचे. इस दौरान उन्होंने त्रिपुरा में बीजेपी की जीत के लिए वहां की जनजातियों को श्रेय दिया. उन्होंने त्रिपुरा के उमुख्यमंत्री विष्णुदेव शर्मा का भी लोगों से परिचय कराया. पीएम ने आदिवासी कल्याण समेत कई विकास योजनाओं की भी शुरुआत की.

पीएम ने कहा, मंडला में रानी दुर्गावती के त्याग की गाथाएं जुड़ी हैं. यहां गोंड परंपरा का इतिहास है. यहां मां नर्मदा ने करोड़ों लोगों के जीवन को संवारा. ऐसे जगह आना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. गांव के सपनों के लिए मैं हमेशा साथ रहूंगा और सब मिलकर गांव के लिए कुछ करने का संकल्प लें.
पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘आदिवासी विकास योजना’ की शुरूआत की. उनका मण्डला के मनेरी औद्योगिक क्षेत्र में एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का भूमि पूजन किया. नीति आयोग ने मध्यप्रदेश के जिन जिलों की गिनती पिछड़े जिलों के रूप में की थी, उन जिलों के कलेक्टरों के साथ प्रधानमंत्री मोदी का मंडला में बैठक का भी कार्यक्रम है.

बता दें कि गांवों के ढांचे को मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार ने हाल ही में राष्ट्रीय ग्राम स्वराज योजना के पुनर्गठन को मंजूरी दी है. इसके तहत अगले चार सालों में गांवों के विकास पर 7255 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे. इनमें करीब 4500 करोड़ रुपए केंद्र और करीब 27 सौ करोड़ राज्य सरकार देगी.पुनर्गठन के बाद तैयार की गई इस नई योजना की शुरूआत के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 अप्रैल देश भर की ग्राम सभाओं को भी सीधे संबोधित करेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हाल ही में हुई कैबिनेट की आर्थिक मामलों की समिति ने योजना के पुनर्गठन को यह मंजूरी दी थी. योजना के नए स्वरूप के तहत ग्राम पंचायतों के आधारभूत ढांचे को मजबूत बनाने के साथ ही ग्राम पंचायत के काम-काज में पारदर्शिता लाने पर भी जोर रहेगा.