जकार्ता. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडोनेशिया की आजादी के संघर्ष के शहीदों को बुधवार को श्रद्धांजलि देकर अपनी यात्रा की शुरुआत की. उन्होंने यहां कलीबाता नेशनल हीरोज सिमेट्री में शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की. इंडोनेशिया की पहली आधिकारी यात्रा पर आए मोदी आज राष्ट्रपति जोको विदोदो से मुलाकात करेंगे और समुद्र, यात्रा और निवेश समेत कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग पर चर्चा करेंगे.Also Read - जन्मदिन विशेष: राजनीति के शीर्ष पर कई वर्षों से काबिज हैं PM नरेंद्र मोदी, जानें 2001 में कैसे राजनीति की हुई थी शुरुआत

Also Read - पीएम मोदी ने अक्षय कुमार की माँ के निधन पर लिखा भावुक पत्र, एक्टर बोले- बातें दिल को छू गईं

दक्षिण जकार्ता में कलीबाता हीरोज सिमेट्री इंडोनेशिया में सैनिकों का कब्रगाह है. इसे साल 1953 में बनाया गया था और नवंबर 1954 में खोला गया था जब पहली बार यहां किसी को दफनाया गया. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक ट्वीट कर कहा, ‘‘ऐसा नहीं हो सकता कि हम इंडोनेशिया की आजादी के संघर्ष में शहीद हुए लोगों को श्रद्धांजलि देना भूल जाएं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कलीबाता नेशनल हीरोज सिमेट्री में पुष्पांजलि अर्पित की और आगंतुक पुस्तिका पर हस्ताक्षर किया.’’ Also Read - तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना की ताजा स्थिति और टीकाकरण अभियान की समीक्षा की

इंडोनेशिया की आजादी की लड़ाई में सेना के शहीद हुए और उस लड़ाई में भाग लेने वाले 7,000 से ज्यादा लोगों को इस कब्रगाह में दफनाया गया है. मोदी पूर्वी एशिया के तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले चरण में कल इंडोनिशया की राजधानी जकार्ता पहुंचे. इंडोनेशिया की उनकी यात्रा का मकसद दो समुद्री पड़ोसियों के बीच राजनीतिक, आर्थिक और सामरिक हितों को मजबूती प्रदान करना है.