Fit India Movement 2020: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज फिट इंडिया मूवमेंट की पहली वर्षगांठ पर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं. कोरोना वायरस के बीच पीएम मोदी ऑनलाइन फिट इंडिया संवाद को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान पीएम मोदी ने ‘फिट इंडिया एज एप्रोप्रियेट फिटनेस प्रोटोकॉल’ लॉन्च किया और देशभर के फिटनेस विशेषज्ञों और प्रभावशाली व्यक्तियों से बातचीत की. इस कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली, बॉलीवुड एक्टर मिलिंद सोमन सहित कई सेलिब्रिटी शामिल हुए और अपनी फिटनेस पर बात की.Also Read - BCCI की नई कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट होगी जारी, क्या Ajinkya Rahane और Cheteshwar Pujara बचा पाएंगे अपना ग्रेड

इस दौरान पीएम मोदी ने भी स्वस्थ जीवनशैली के अपने विचारों पर चर्चा की और साथ ही अपनी सेहत संबंधी राज खोले. पीएम मोदी ने बताया कि उनकी सेहत का राज हल्दी है. आज भी उनकी मां अक्सर उन्हें कॉल करती हैं और उनसे पूछती हैं कि उन्होंने हल्दी खाई या नहीं. इसके साथ योग के महत्व पर भी उन्होंने चर्चा की. पीएम मोदी के मुताबिक, योग को किसी धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए. जिस पर शिवध्यानम सरस्वती ने भी उनका समर्थन किया और कहा कि योग से अधिकतम लाभ लिया जा सकता है. इसे किसी धर्म या मंत्र से नहीं जोड़ना चाहिए. Also Read - Virat Kohli की प्रेस कॉन्फ्रेंस से खुश नहीं थे Sourav Ganguly, देना चाहते थे 'कारण बताओ' नोटिस, लेकिन...

Also Read - IND vs SA Dream11 Team Prediction: भारत vs साउथ अफ्रीका, दूसरे वनडे में यह है ड्रीम XI टीम, Shikhar Dhawan को कप्तानी में दें मौका

फिट इंडिया डायलॉग में देशभर से कई बड़ी हस्तियों ने भाग लिया और फिटनेस को लेकर अपनी अपनी बातें शेयर की. जम्मू कश्मीर की फुटबालर अफशान आशिक ने कहा कि मैं फिट रहने के लिए शांत रहने के गुण को सबसे अहम मानती हूं. उन्होेंने कहा कि मैंने यह गुण टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से सीखा है. इसी के साथ पीएम मोदी ने एक्टर मिलिंद की मां की काफी बड़ाई की. उन्होंने कहा कि मैंने उनका पुशअप करते हुए वायरल वीडियो को चार बार देखा है और उनको मेरा विशेष प्रणाम.

पीएमओ ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री द्वारा जन आंदोलन के रूप में परिकल्पित फिट इंडिया संवाद आम जन की भागीदारी के साथ भारत को एक स्वस्थ राष्ट्र बनाने की दिशा में किया जा रहा एक और प्रयास है. जिस मूल सिद्धांत पर फिट इंडिया मूवमेंट की परिकल्पना की गई है, उसमें लोगों द्वारा मौज मस्ती के साथ आसान और बिना किसी खर्चे के फिट रहने की आदतों को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाना शामिल है जिसे इस संवाद के जरिए और सशक्त बनाने का प्रयास किया जा रहा है.’’

देश में लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के मकसद से राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर पिछले साल ‘फिट इंडिया अभियान’ की शुरुआत की गई थी. इसके तहत पिछले एक साल में देश में विभिन्न कार्यक्रमों मसलन “द फिट इंडिया फ्रीडम रन”, “प्लॉग रन”, “साइक्लोथॉन”, “फिट इंडिया वीक”, “फिट इंडिया स्कूल सर्टिफिकेट” का आयोजन किया गया. पीएमओ ने कहा, ‘‘इन कार्यक्रमों में 3.5 करोड़ से अधिक लोगों की सामूहिक भागीदारी देखी गई, जो इसे सही मायने में एक जन आंदोलन बनाता है.’’