नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 49वीं बार मन की बात कार्यक्रम द्वारा देश को संबोधित किया. पीएम मोदी ने सरदार पटेल को याद करते हुए लोगों से रन फॉर यूनिटी में हिस्सा लेने की अपील की. पीएम ने कहा टाइम मैगजीन की स्टोरी में सरदार पटेल के विजन का जिक्र है. टाइम मैगजीन ने बताया कि सरदार पटेल ने विषम परिस्थितियों में कैसे देश को संभाला. सरदार पटेल ने देश को एकता के सूत्र में पिरोने का असंभव कार्य किया. उन्होंने 562 रियासतों को मिलाने का काम किया. Also Read - Mann Ki Baat: पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट पर देशवासियों से मांगी माफी, कही ये बड़ी बातें

पीएम ने कहा कि इस 31 अक्टूबर को हम सरदार पटेल की याद में स्टेचू ऑफ यूनिटी देश को समर्पित करेंगे. स्टेचू ऑफ यूनिटी अमेरिकी की यूनिटी ऑफ लिबर्टी से भी ऊंचा है. पीएम ने पैदल सेना दिवस का जिक्र किया और कहा- इसी दिन भारतीय सेना के जवान कश्मीर घाटी में उतरे थे और घुसपैठियों से कश्मीर की रक्षा की थी. प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को याद करते हुए उनको श्रद्धांजलि अर्पित की. Also Read - 'मन की बात' में कोरोनावायरस को लेकर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, 11 बजे से होगा प्रसारण

यूथ ओलंपिक 2018 का जिक्र
मन की बात में पीएम मोदी ने यूथ ओलंपिक 2018 का जिक्र करते हुए खिलाड़ियों की तारीफ की. पीएम मोदी ने कहा कि इस बार भारत के खिलाड़ियों ने यूथ ओलंपिक में अब तक सबसे शानदार प्रदर्शन किया. हर खिलाड़ी न्यू इंडिया और उसके जज्बे का प्रमाण फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा- देश के अलग-अलग स्टेडियम में 12 लाख लोगों ने फुटबॉल का आनंद लिया. पीएम ने कहा कि इस बार भारत को पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप के आयोजन का सौभाग्य मिला है. हॉकी के इतिहास में भारत का स्वर्णिम सफर रहा है. जब भी हॉकी का जिक्र होगा तो भारत का नाम जरूर लिया जाएगा. ओडिशा में पुरुषों का हॉकी वर्ल्ड कप आयोजित होना ओडिशा के लिए बहुत ही लाभदायक होगा. Also Read - देशभर के रेडियो जॉकी को पीएम मोदी का संदेश- महामारी से लोगों को आ रही समस्याओं की जानकारी दें

पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप पर भी बोले
पीएम ने कहा कि भारत को इस वर्ष भुवनेश्वर में पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप 2018 के आयोजन का सौभाग्य मिला है. हॉकी वर्ल्‍ड कप 28 नवंबर से 16 दिसंबर तक चलेगा. उन्‍होंने कहा ‘हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से तो पूरी दुनिया परिचित है. बलविंदर सिंह सीनियर, लेस्‍ली क्‍लॉडियस, मोहम्मद शाहिद, उधम सिंह से लेकर धनराज पिल्लई तक हॉकी ने एक बड़ा सफर तय किया है. खेल प्रेमियों के लिए रोमांचक मैचे को देखने का यह एक अच्छा अवसर है.

आदिवासी जनजातियों की तारीफ की
मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी ने आदिवासी जनजातियों का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी परंपराएं और पूजा-पद्धतियां प्रकृति को मजबूती प्रदान करती हैं. आदिवासी समुदाय हमेशा आपसी सौहार्द के साथ रहने में विश्वास करते हैं लेकिन अगर कोई उनके प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करने की कोशिश करता है तो उसके लिए खड़े होने से भी पीछे नहीं हटते हैं. पीएम ने कहा कि बिरसा मुुंडा ने जंगलों को बचाने के लिए अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी. जो जंगल बचे हैं उनके लिए हम आदिवासियों के कर्जदार हैं.

प्रथम विश्व युद्ध के 100 साल
पीएम ने कहा कि दुनिया में जब भी शांति की बात होगी तो भारत का नाम हमेशा स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा क्योंकि विश्व में शांति हमारी मूल भावना है. 11 नवंबर को प्रथम विश्व युद्ध के 100 साल पूरे हो रहे हैं. भारत के लिए यह महत्वपूर्ण घटना थी. हमारे सैनिक बहादुरी से लड़े और बलिदान दिया. हमारे सैनिकों ने दुर्गम क्षेत्रों में अपना शौर्य दिखाया है. एक अनुमान के मुताबिक लगभग एक करोड़ सैनिकों और इतने ही लोगों ने अपनी जान गंवाई. शांति के लिए विश्व ने बड़ी कीमत चुकाई है. पीएम ने लोगों को आने वाले त्योहारों की बधाई दी.

पीएम की अपील
पीएम ने पंजाब के एक गांव के लोगों की सराहना की. उन्होंने कहा पंजाब का एक गांव कल्लर माजरा इसलिए चर्चित हुआ है क्योंकि वहां के लोग धान की पराली जलाने की बजाय उसे जोतकर उसी मिट्टी में मिला देते हैं. कल्लर माजरा और उन सभी जगहों के लोगों को बधाई जो वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए अपना श्रेष्ठ प्रयास कर रहें हैं. पीएम मोदी ने अपने कार्यक्रम में किसानों से पराली न जलाने की भी अपील की.