नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां की यात्रा पर आए मालदीव के विदेश मंत्री से शुक्रवार को कहा कि भारत एक मजबूत, लोकतांत्रिक, समृद्ध और शांतिपूर्ण मालदीव के लिए माले के साथ साझेदारी को लेकर प्रतिबद्ध बना हुआ है. मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद छठे भारत-मालदीव संयुक्त आयोग बैठक (जेसीएम) के लिए भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं. उन्होंने यहां प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की. मोदी ने (मालदीव में) राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह की सरकार के प्रथम वर्ष में हासिल की गई उपलब्धियों को लेकर उन्हें अपनी शुभकामनाएं दी.

 

प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक बयान के मुताबिक उन्होंने दोनों देशों के बीच संबंधों के बढ़ने और पिछले एक साल में द्विपक्षीय सहयोग के नतीजों पर संतोष जताया. मोदी ने भरोसा जताया कि छठे जेसीएम के दौरान दोनों देश प्रगति की समीक्षा करने तथा परस्पर लाभकारी सहयोग को और अधिक प्रगाढ़ करने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए कहीं अधिक महत्वाकांक्षी तरीके का खाका तैयार कर पाएंगे. बयान में कहा गया है कि शाहिद ने उन विभिन्न विकास सहयोग पहल में भारत के समर्थन की सराहना की, जिन्हें इस द्वीपीय देश में अभी लागू किया जा रहा है.


मालदीव की संसद ‘पीपुल्स मजलिस’ के स्पीकर मोहम्मद नशीद ने भी प्रधानमंत्री से मुलाकात की. वह राज्यसभा के सभापति एवं लोकसभा स्पीकर के संयुक्त न्योते पर भारत की यात्रा पर हैं. नशीद का स्वागत करते हुए मोदी ने इस बात का जिक्र किया कि दोनों संसदों के बीच संबंध भारत-मालदीव के जीवंत संबंध का एक अहम हिस्सा है. एक अन्य बयान के मुताबिक नशीद ने माले में पिछले साल नयी सरकार के गठन के बाद से भारत- मालदीव के बीच मजबूत संबंध के लिए अनवरत समर्थन को लेकर प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया अदा किया.