नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) वीडियो लिंक के जरिए मंगलवार को बांग्लादेश में शेख मुजीब-उर-रहमान(Mujib-ur-Rehman) के जन्म शताब्दी समारोह में हिस्सा लेंगे. ढाका के नेशनल परेड ग्राउंड में 17 मार्च को साल भर चलने वाले समारोह का आयोजन किया जाना था जिसमें मोदी सहित कई विदेशी गणमान्य लोगों के भाग लेने की उम्मीद थी. लेकिन कोरोना वायरस(Coronavirus) महामारी के कारण समारोह में अब लोगों की भीड़ नहीं जुटेगी. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी की मां ने सालों में बचाए 25 हजार रुपए PM CARES Fund फंड में किए दान

प्रधानमंत्री कार्यालय ने सोमवार को कहा कि मोदी कल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘जतिर पिता’ बंगबंधु, रहमान के जन्म शताब्दी समारोह में भाग लेंगे. मोदी की बांग्लादेश यात्रा महत्वपूर्ण समय पर हो रही थी और उनसे भारत के नए नागरिकता कानून और एनआरसी(NRC) को लेकर उठ रही चिंताओं को शांत करने की उम्मीद की जा रही थी. Also Read - Mann Ki Baat: पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट पर देशवासियों से मांगी माफी, कही ये बड़ी बातें

लेकिन बांग्लादेश में कोरोना वायरस के पांच मामलों की पुष्टि होने के बाद इस स्मरणीय कार्यक्रम को टाल दिया गया. बांग्लादेश ने कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सोमवार को सभी शैक्षणिक संस्थानों को मार्च के अंत तक बंद कर दिया और भारत सहित कई देशों के यात्रियों के देश में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया.

रहमान बांग्लादेश के पहले राष्ट्रपति थे और बाद में 17 अप्रैल 1971 को बांग्लादेश के प्रधानमंत्री पद पर आसीन रहे. वह 15 अगस्त 1975 को उनकी हत्या किए जाने तक देश के प्रधानमंत्री रहे. रहमान को बांग्लादेश की स्वतंत्रता के पीछे की प्रेरणा शक्ति माना जाता है और उन्हें ‘बंगबंधु’ (बंगाल का मित्र) की उपाधि दी गई है. उनकी बेटी शेख हसीना बांग्लादेश की वर्तमान प्रधानमंत्री हैं.