नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को पूर्वांचल के गाजीपुर पहुंचे. इस दौरान उन्होंने महाराजा सुहेलदेव की शौर्यगाथा, देश में उनके योगदान को नमन करते हुए उनकी स्मृति में डाक टिकट जारी किया. उन्होंने कहा कि उनके महान कार्यों को हिन्दुस्तान के हर कोने में पहुंचाने का नम्र प्रयास इस डाक टिकट से होने वाला है. अपने इतिहास के स्वर्णिम पन्नों पर हम धूल नहीं जमने देंगे. इस दौरान उन्होंने मध्यप्रदेश में यूरिया की चोरी और किसानों के दूसरे मुद्दे पर सरकार को घेरा. Also Read - ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने G7 शिखरवार्ता के लिए प्रधानमंत्री मोदी को भेजा न्योता, भारत को बताया ‘दुनिया की फार्मेसी’

उन्होंने कहा, सरकार के संस्कार और व्यवहार में परिवर्तन दिख रहा है. यही कारण है कि गरीब से गरीब की भी मांग सुनने का रास्ता खुला है. अभी यह शुरुआती दौर है. अभी एक ठोस आधार बना है. इसी नींव पर मजबूत इमारत तैयार करने का काम अभी बाकी है. पूर्वांचल को मेडिकल हब बनाने की दिशा में निरंतर तेजी लायी जा रही है. गरीब और मध्यम वर्ग के स्वास्थ्य को आजादी के बाद पहली बार इतनी प्राथमिकता दी जा रही है. Also Read - भारत में टीकाकरण शुरू होने पर इस देश के प्रधानमंत्री ने कहा कुछ ऐसा, पीएम मोदी ने दिया ये जवाब

चौकीदार ईमानदारी से कर रहा है काम
पीएम ने कहा, बीते साढ़े 4 सालों में पूर्वी उत्तर प्रदेश में रेल विकास से जुड़े कई महत्वपूर्ण कार्य हुए हैं और दूसरे तेजी से हो रहे हैं. देश में विकास की पंचधारा माने बच्चों को पढ़ाई, युवाओं को कमाई, बुजुर्गों को दवाई, किसानों को सिंचाई और जन-जन की सुनवाई हो रही है. इस दौरान पीएम ने कहा कि आपका चौकीदार ईमानदारी से काम कर रहा है. चौकीदार की वजह से कुछ चोरों की रातों की नींद उड़ी हुई है. Also Read - PM Modi Announced Startup Fund: देश में स्टार्ट-अप को मिलेगा बढ़ावा, PM मोदी ने की 1,000 करोड़ रुपये के फंड की घोषणा

किसानों की आय दोगुनी होने के लिए हो रहा है काम
पीएम ने कहा, आज जो भी काम हो रहा है, वह पूरी प्रामाणिकता और ईमानदारी से किसानों की आय दोगुनी करने के लिये हो रहा है. वोट बटोरने के लिये लुभावने उपायों का हश्र क्या होता है वह अभी मध्य प्रदेश और राजस्थान में दिख रहा है. कर्नाटक में लाखों किसानों की कर्जमाफी का वादा किया गया था. वहां कांग्रेस ने पिछले दरवाजे से सरकार बनाई और किसानों को कर्जमाफी का लालीपॉप पकड़ा दिया. कांग्रेस के झूठ और बेईमानी से सतर्क रहिए. कांग्रेस के चलते ही किसानों को लागत का डेढ़ गुना मूल्य देने की सिफारिश वाली फाइल वर्षों तक दबी रही.