नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को यूपी के वाराणसी में चल रहे तीन दिवसीय 15 वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का उद्घाटन किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि इस सम्मेलन की शुरुआत पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी. उनके निधन के बाद पहली बार यह कार्यक्रम हो रहा है. उन्होंने प्रवासी भारतीयों को भारत का ब्रांड एंबेस्डर बताया.

पीएम ने कहा कि दुनिया के कई देशों के प्रमुख का जुड़ाव भारत से है. उन्होंने कहा कि पहले ये धारणा थी कि भारत नहीं बदल सकता है, लेकिन हमने इसे बदल कर दिखाया. आज की तारीख में भारत कई मामले में दुनिया की अगुवाई कर रहा है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि देश के एक पीएम ने कहा था कि दिल्ली से सरकार एक रुपये भेजती है तो गांव में सिर्फ 15 पैसे पहुंचता है. हमारी सरकार ने तकनीक का इस्तेमाल करके इस लूट को खत्म कर दिया. उन्होंने कहा कि अब सब्सिडी का सारा हिस्सा सीधे लोगों के बैंक अकाउंट में पहुंचता है. इससे करीब 4.5 लाख करोड़ से अधिक की संपत्ति की लूट होने से रोकी.

7 करोड़ फर्जी लोग
पीएम ने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में सरकार ने करीब-करीब 7 करोड़ फर्जी लोगों को पहचानकर, उन्हें व्यवस्था से हटाया है. ये 7 करोड़ लोग वास्तव में थे ही नहीं, लेकिन सरकारी सुविधाओं का लाभ ले रहे थे. ब्रिटेन, फ्रांस और इटली में जितने लोग हैं, ऐसे अनेक देशों की जनसंख्या से ज्यादा तो हमारे यहां वो लोग थे, जो सिर्फ कागजों में जी रहे थे.

कुंभ की वजह से पहले झिझक में थे
प्रवासी कार्यक्रम पर पीएम ने कहा, शुरू में हम झिझक में थे कि इलाहाबाद में कुंभ हो रहा है और उसके बगल में वाराणसी में इतना बड़ा कार्यक्रम करें या नहीं. लेकिन उसके बाद भी सीएम योगी आदित्यनाथ की टीम ने इसका सफल आयोजन किया है. यहां की टेंट सिटी की भी काफी तारीफ की और काशीवासियों के सहयोग की भी दाद दी.

पासपोर्ट-वीजा बनवाना हुआ आसान
प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि पासपोर्ट के साथ-साथ वीज़ा से जुड़े नियमों को भी तेजी से सरल किया जा रहा है. ई-वीजा की सुविधा मिलने से समय की बचत हो रही है. सबकी परेशानियां कम हुई हैं. अभी भी अगर कोई समस्याएं इसमें हैं तो उसके सुधार के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं.