नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को सभी सांसदों का आह्वान किया कि वे संसद के बजट सत्र का उपयोग सकारात्मक चर्चा के लिए करें. उन्होंने कहा कि जो सदन में चर्चा में भाग नहीं लेते, उनके प्रति समाज में नाराजगी पनपती है. मोदी ने सत्र प्रारंभ होने से पहले संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश के लोगों में जागरुकता है तथा सभी नागरिक सदन की कार्यवाही को गंभीरता से देखते हैं.

उन्होंने कहा, छोटी चीजें भी आम आदमी तक पहुंचती हैं. जिन लोगों की चर्चा में रुचि नहीं है, समाज में उनके खिलाफ सामान्य तौर पर एक नाराजगी है. प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि सांसद इन भावनाओं को ध्यान में रखेंगे और चर्चाओं में हिस्सा ले कर सत्र का उपयोग करेंगे,अपने विचार पेश करेंगे जिससे संसद को और सरकार को लाभ मिलेगा.

सकारात्मक बर्ताव करेंगे
उन्होंने कहा, मैं यह भी जानता हूं कि जब सभी सांसदों को अपने अपने क्षेत्रों में जाना है तो ऐसे में वे जो भी सकारात्मक बर्ताव करेंगे उससे उन्हें क्षेत्र में सकारात्मक लाभ मिलेगा और इससे यह भी पता चलता है कि जनता सांसदों को कैसे देखती है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का मंत्र है, सबका साथ, सबका विकास. यही भावना संसद में दिखाई देगी. प्रधानमंत्री ने कहा, हम सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक (तैयार) हैं.

चर्चा का करूंगा स्वागत
मोदी ने कहा ,मैं खुले दिमाग से चर्चा का स्वागत करूंगा, संसद की निर्विघ्ऩ कार्यवाही का स्वागत करूंगा, मैं इस बात का स्वागत करूंगा कि सभी सांसद भारत का भविष्य बनाने के लिए मिल कर काम करें.