नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा, दिवालिया होने की कगार पर खड़ा देश अब आतंक का दूसरा नाम बन गया है. उन्होंने कहा कि हम शहीदों के परिवारों का दर्द महसूस कर सकते हैं, हम पुलवामा में जो हुआ उसे लेकर आपके गुस्से का समझते हैं. पुलवामा में सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जाएगी, सुरक्षा बलों को हमले के साजिशकर्ताओं को दंड देने की पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है.

इसके पहले यवतमाल जिले में आयोजित एक जनसभा में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कुछपल का मौन रखा गया. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, हंसराज अहीर, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस और राज्यपाल विद्यासागर राव भी यहां मौके पर मौजूद थे.

 

40 जवान हुए हैं शहीद
बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को एक आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने 100 किलोग्राम विस्फोट सामग्री से लदा अपना वाहन सेना की एक बस से टकरा दिया था. पंधार्कावाडा इलाके में आयोजित एक समारोह में प्रधानमंत्री मोदी ने आदिवासी छात्रों के लिए ‘एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय’ का उद्घाटन किया और प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत कुछ लाभार्थियों को मकानों की चाबियां भी दी.

धुले में परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन
धुले जिले में मोदी प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाई) के तहत लोअर पंजारा मध्यम परियोजना का उद्घाटन भी करेंगे. पीएम सुलवड़े जामफल कनोली लिफ्ट इरीगेशन स्कीम और धुले शहर जलापूर्ति योजना की नींव भी रखेंगे. वह वीडियो लिंक के माध्यम से धुले-नारदाना और जलगांव मनमाड तीसरी रेलवे लाइन, भुसावल-बांद्रा खंडेश एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाएंगे.