अहमदाबाद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि देश की आजादी से पहले लोगों में जो कर्तव्य बोध था, वह अब अधिकार की भावना में तब्दील हो गई है. गुजरात के भावनगर जिला स्थित सनोसरा गांव में एक सभा को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए मोदी ने नागरिकों के साथ – साथ सामाजिक एवं राजनीतिक नेताओं को महात्मा गांधी से प्रेरणा लेने की अपील की तथा स्वच्छता अभियान को जन आंदोलन बनाने को कहा.

प्रधानमंत्री ने कहा, महात्मा गांधी ने हमेशा ही कर्तव्य पर जोर दिया। हालांकि, आजादी के बाद यह कर्तव्य बोध अधिकार की भावना में तब्दील हो गई. जबकि देश के विकास के लिए हमें आज इन दोनों की जरूरत है. उन्होंने ध्यान दिलाया कि महात्मा गांधी ने एक जन आंदोलन खड़ा किया, जिसने स्वतंत्रता हासिल करने में अहम भूमिका निभाई. उन्होंने कहा, हमारा स्वच्छता अभियान लोगों की सहभागिता की वजह से सफल हुआ. सरकार अकेले यह नहीं कर पाती.

सहभागिता को ताकत समझें
मोदी ने कहा कि यह जरूरी है कि प्रत्येक नागरिक जन आंदोलन एवं लोगों की सहभागिता की ताकत को समझे. उन्होंने सभी नागरिकों और राजनीतिक दलों के नेताओं से स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाने की अपील की. केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया द्वारा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोहों के तहत आयोजित 150 किलोमीटर के मार्च के समापन समारोह में प्रधानमंत्री एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे.