शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) ने संसद टीवी (Sansad TV) के कार्यक्रम ‘मेरी कहानी’ की एंकरिंग नहीं करने का फैसला किया है. चतुर्वेदी राज्यसभा के उन 12 सदस्यों में शामिल हैं, जिन्हें सदन में खराब आचरण के कारण हाल में निलंबित कर दिया गया था. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू को पांच दिसंबर को लिखे पत्र में चतुर्वेदी ने कहा, ‘मेरे मनमाने निलंबन के बाद, जिसने स्थापित संसदीय मानदंडों और नियमों को पूरी तरह से कलंकित किया है, मेरी और मेरी पार्टी की आवाज को दबाने की कोशिश की गई. जब मुझे संविधान की प्राथमिक शपथ से वंचित किया जा रहा है, ऐसे में मैं संसद टीवी का दायित्व निभाने को अनिच्छुक हूं.’Also Read - Wine at Supermarket: संजय राउत का तर्क, किसानों की आमदनी दोगुना करने को उठाया कदम

गौरतलब है कि 12 विपक्षी सांसदों को अगस्त में पिछले सत्र के दौरान उनके खराब आचरण के कारण सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया था. इनमें कांग्रेस के छह, तृणमूल कांग्रेस और शिवसेना के दो-दो, और भाकपा तथा माकपा के एक-एक सदस्य शामिल हैं. Also Read - Maharashtra News: मालेगांव की मेयर सहित कांग्रेस के 30 में से 27 पार्षदों ने थामा NCP का दामन

क्या है मामला
बता दें कि बीते संसद के मॉनसून सत्र के दौरान बीते 11 अगस्त को राज्यसभा में हंगामे के दौरान धक्का-मुक्की करने और सदन की मर्यादा का कथित तौर पर उल्लंघन करने के आरोपों के बाद राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने इस मामले की जांच के लिए एक समिति गठित की थी. समिति की सिफारिशों के आधार पर इन सांसदों के खिलाफ शीत सत्र के पहले ही दिन कार्रवाई की गई. 29 अगस्त के शुरू हुआ संसद का शीतकालीन सत्र 23 दिसंबर तक प्रस्तावित है. Also Read - उद्धव ठाकरे बोले- शिवसेना ने BJP के साथ रहकर 25 साल बर्बाद कर दिए, ये मैं अब भी मानता हूं

(इनपुट: भाषा)