नई दिल्ली. यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी को कांग्रेस ने पार्टी का महासचिव बनाया है. जिस दौरान उनको पार्टी में जिम्मेदारी देने की घोषणा की गई, उस समय वह विदेश में थी और मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बेटी का इलाज करा रही थीं. सोमवार को ही वह लौटी हैं और इसके बाद राहुल गांधी से मुलाकात की. बताया जा रहा है कि इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक मीटिंग हुई और तय हुआ कि 11 फरवरी को यूपी की राजधानी लखनऊ में एक रोड शो करके प्रियंका लोकसभा चुनाव की तैयारी का आगाज करेंगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार की शाम को प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राहुल गांधी के घर पर जाकर मुलाकात की. इसके बाद पार्टी के कुछ दूसरे वरिष्ठ नेताओं से बात करने के बाद ये तह हुआ कि प्रियंका सबसे पहले लखनऊ में एक रोड शो करेंगी. इसकी तारीख और रोड मैप भी तय हो गया है. बताया जा रहा है कि इस दौरान दूसरी पार्टियों के भी कई नेता कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं.

महाराष्ट्र में भी कर सकती हैं रैलियां
दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी वाड्रा की महाराष्ट्र में भी कम से कम दो-दो रैलियां कराने की योजना है. पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने मंगलवार को कहा कि राहुल और प्रियंका की रैलियों का कार्यक्रम उनकी मंजूरी मिलने के बाद तय किया जाएगा. शिंदे महाराष्ट्र में कांग्रेस प्रचार समिति के प्रभारी हैं. उन्होंने कहा कि हरेक मंडल के समन्वयकों से प्रचार के लिए नेताओं के नामों को अंतिम रूप देने को कहा गया है. महाराष्ट्र में 48 लोकसभा सीटें हैं.

राहुल के कमरे में बैठेंगी प्रियंका
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पार्टी मुख्यालय में अपने भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कमरे के बगल वाले कक्ष में बैठेंगी. हाल ही में सक्रिय राजनीति में कदम रखने वाली प्रियंका ने अभी आधिकारिक रूप से पदभार नहीं संभाला है. हालांकि ऐसी खबरें हैं कि विदेश से लौटने के बाद वह उत्तर प्रदेश में पार्टी की गतविधियों एवं रणनीति को लेकर लगातार बैठकें कर रही हैं. पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस मुख्यालय में अध्यक्ष के बगल वाला वही कमरा प्रियंका को दिया गया जहां राहुल बतौर पार्टी उपाध्यक्ष बैठा करते थे.